नई दिल्ली : 18 जुलाई को राष्ट्रपति पद के लिए मतदान होगा और 21 जुलाई को नए राष्ट्रपति की घोषणा होगी

राष्ट्रपति चुनाव की तारीख का ऐलान करते मुख्य चुनाव अधिकारी

इस चुनाव में 776 सांसदों और 4,033 विधायकों सहित कुल 4,809 मतदाता मतदान करेंगे, राज्यसभा के महासचिव चुनाव के प्रभारी होंगे

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है
चुनाव आयोग ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर राष्ट्रपति चुनाव की तारीख का ऐलान कर दिया है> अगला राष्ट्रपति चुनाव 18 जुलाई को होगा और फिर वोटों की गिनती 21 जुलाई को होगी और उसी दिन देश को नया राष्ट्रपति मिलेगा। मौजूदा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है। इससे पहले देश के 15वें राष्ट्रपति का चुनाव होगा।
इस चुनाव को लेकर महत्वपूर्ण तिथियाँ इस प्रकार है। चुनाव आयोग द्वारा 15 जून को अधिसूचना जारी की जाएगी। सदस्यता 29 जून तक पंजीकृत की जा सकती है। उम्मीदवारी की स्क्रूटनी 30 जून को होगी। सदस्यता 2 जुलाई तक वापस ली जा सकती है और मतदान 18 जुलाई को होगा। वोटों की गिनती 21 जुलाई को होगी और नतीजे की घोषणा की जाएगी। 
आम जनता राष्ट्रपति पद के लिए मतदान नहीं कर सकती है। लोगों द्वारा चुने गए प्रतिनिधि और उच्च सदन के सदस्य इसके लिए मतदान कर सकते हैं। जैसे, लोकसभा और राज्यसभा के सदस्य राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान कर सकते हैं। राष्ट्रपति पद के लिए वोटिंग बैलेट पेपर से होगी। इसके अलावा सभी राज्य विधानसभाओं के सदस्य राष्ट्रपति पद के लिए मतदान कर सकते हैं। इसमें केंद्र शासित प्रदेश दिल्ली और पुडुचेरी की विधान सभा के सदस्य भी शामिल हैं।
इस चुनाव में 776 सांसदों और 4,033 विधायकों सहित कुल 4,809 मतदाता मतदान करेंगे।
मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने गुरुवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राष्ट्रपति चुनाव को लेकर अधिसूचना जारी कर दी गई है। चुनाव में मतदान के लिए विशेष स्याही पेन की व्यवस्था की जाएगी। 1,2,3 को वोट देने का विकल्प बताना होगा। पहली पसंद घोषित नहीं होने पर मतदान रद्द कर दिया जाएगा। दूसरी ओर राजनीतिक दल इस दौरान कोई व्हिप जारी नहीं कर सकेंगे। संसद और विधानमंडल में वोटों की गिनती होगी। राज्यसभा के महासचिव चुनाव के प्रभारी होंगे। साथ ही कोरोना प्रोटोकॉल के अनुपालन के निर्देश जारी किए गए हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें