जानें CA की परीक्षा को स्थगित करने के आवेदन के सामने ICAI ने सुप्रीम कोर्ट में क्या दिया जवाब

(File Photo: IANS)

10वीं तथा 12वीं की परीक्षा के साथ नहीं की जा सकती CA परीक्षा की तुलना - ICAI

इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटंट्स ऑफ इंडिया (ICAI) द्वारा सोमवार को सुप्रीम कोर्ट को ज्ञापन दिया 5 जुलाई से शुरू होने वाली चार्टर्ड अकाउंटंट की परीक्षाओं को रद्द या स्थगित न होने दिया जाये, क्योंकि देश भर में कोरोना संक्रमण अब काफी कम है। ICAI ने कहा की सीए के छात्रों को अब उनके करियर को आगे बढ़ाने का एक और मौका मिला है। ICAI द्वारा सुप्रीम कोर्ट को दिये एक ज्ञापन में कहा गया कि देश भर में कोरोना का संक्रमण काफी कम है, ऐसे में छात्रों कि परीक्षा तय शिड्यूल पर ही ली जाये वह उम्मीदवारों के हित में होगा। इसलिए इस परिस्थिति में परीक्षाएँ ना ही रद्द हो और ना ही स्थगित हो।    
ICAI ने कहा कि सीए कि परीक्षा एक प्रोफेशनल परीक्षा है। उसकी तुलना सीबीएसई या राज्य बोर्ड द्वारा ली जाने वाली 10वीं या 12वीं परीक्षाओं के साथ नहीं की जा सकती। न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर, जस्टिस दिनेश माहेश्वरी और जस्टिस अनिरुद्ध बोझ की बैच द्वारा सोमवार को कहा गया की इस मामले में मंगवालार को निर्णय लिया जाएगा। सर्वोच्च अदालत ने ICAI को 5 जुलाई से शुरू हो रही परीक्षाओं के लिए स्टांडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर में संशोधन करने के लिए तीन विभिन्न अरजदारों द्वारा की गई सूचनाओं का जवाब देने को कहा गया है। अरजदारों द्वारा की गई अर्जी में जब तक कोरोना की स्थिति सामान्य ना हो तब तक अथवा शिक्षकों, छात्रों तथा सभी निरीक्षकों का टीकाकरण ना हो जाये तब तक सीए की परीक्षा को स्थगित रखने की मांग की थी। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें