प्रेरणादायक: एक ही घर की दो बेटियां सेना में शामिल, पिता टेम्पो चलाकर करते थे गुजारा

(Photo Credit : vtvgujarati.com)

बचपन में मां की छत्रछाया खोने के बाद पिता ने संभाला

आज के समय बेटियां वो सब करके दिखा रही है जो बेटे करते है। आज के समय में लड़कियां कठिन से कठिन काम करके परिवार का नाम रोशन कर रही है। बोटाद में टेम्पो चलाने वाले पिता की दो बेटियों ने उनका नाम रोशन किया है। दोनों बेटियों का सेना में चयन होने से गांव में इस समय खुशी का माहौल है।
आपको बता दें कि बोटाद के रहने वाले परबतभाई दिन-रात मेहनत कर अपना परिवार चलाते हैं। इस समय इस घर में खुशियों का माहौल है। खुशी का यह माहौल इसलिए है क्योंकि उनकी दोनों बेटियों ने अपना नाम रोशन किया है। परिवार की दोनों बेटियों ने दिन-रात मेहनत की और आज उन्हें देश की सेवा करने का मौका मिला है। ये दोनों बहनें बचपन से ही खेलों में अच्छी रही हैं। दोनों बहनें बचपन से ही देश के लिए कुछ करना चाहती थीं। बचपन में मां की छत्रछाया खोने के बावजूद दोनों बेटियां आत्मविश्वास से भरी थीं। उनके पिता ने बेटियों को आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया। ये पिता दोनों बेटियों के भरण-पोषण के लिए रिक्शा चलाते थे। बेटियां सेना में शामिल होना चाहती थीं इसलिए उन्होंने बेटियों को प्रेरित करने के लिए दिन-रात मेहनत की। दोनों बेटियों ने भी पिता की तरह मेहनत की जो अंत में रंग लाई।
दोनों बहनों की मेहनत रंग लाई है और उनका चयन सेना में हो गया है। ऐसे में परिवार में अब खुशी का माहौल है। वहीं समाज ने भी उन्हें बधाई दी है और खुशी जाहिर की है. दोनों बहनों के चयन से गोरखड़ा गांव के साथ-साथ जिले का भी गौरव बढ़ा है। वहीं ये दोनों युवतियां अब दूसरी युवतियों के लिए प्रेरणा बन गई हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें