गुजरात : देश में हुए पहले एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच की मेजबान का सौभाग्य इस शहर के नाम, स्टेडियम में खेला गया एकमात्र अन्तर्राष्ट्रीय मैच!

अहमदाबाद के सरदार वल्लभभाई पटेल स्टेडियम में खेला गया था भारतीय जमीन पर हुआ पहला एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच

भारत में पहला एकदिवसीय मैच कहाँ खेला गया या भारतीय धरती पर किस शहर ने पहले एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच की मेजबानी की? ऐसा सवाल पूछा जाए तो स्वाभाविक भी है कि आपके मन में मुंबई, कोलकाता, दिल्ली जैसे जवाब आते होंगे। लेकिन इस सवाल का जवाब कुछ अलग ही है। तथ्य यह है कि यह सम्मान अहमदाबाद के सरदार वल्लभभाई पटेल स्टेडियम (नवरंगपुरा स्टेडियम) को जाता है।

41 साल पहले हुआ था मैच, भारत की टीम में थे ये खिलाड़ी


आपको बता दें कि आज से ठीक 41 साल पहले यानी 25 नवंबर 1981 को भारत-इंग्लैंड वनडे सरदार वल्लभभाई पटेल स्टेडियम में खेला गया था, जो भारतीय सरजमीं पर खेला गया पहला वनडे था। इस मैच में भारत को 5 विकेट की करारी हार मिली थी। 46 ओवर के इस वनडे मैच में इंग्लैंड के कप्तान कीथ फ्लेचर ने टॉस जीतकर पहले फील्डिंग करने का फैसला किया। सुनील गावस्कर के नेतृत्व वाली भारतीय टीम में क्रिस श्रीकांत, दिलीप वेंगसरकर, गुंडप्पा विश्वनाथ, कीर्ति आजाद, मदनलाल, सैयद किरमानी, रवि शास्त्री, रोजर बिन्नी, दिलीप दोषी, रणधीर सिंह शामिल थे। इस मैच से रवि शास्त्री, श्रीकांत और रणधीर सिंह ने अपना वनडे डेब्यू किया।

इंग्लैंड की टीम में थे ये धुरंधर


वहीं इंग्लैंड की टीम में ग्राहम गूच, ज्योफ बॉयकॉट, डेविड गॉवर, माइक गैटिंग, इयान बॉथम, डेकेयर अंडरवुड जैसे सितारे शामिल थे। कोई सोच भी नहीं सकता था कि जब मैदान के चारों तरफ स्टैंड होंगे। लेकिन मेजबान गुजरात क्रिकेट संघ ने उस समय शामियाना बांध रखा था। इनमें से प्रत्येक शामियाने का स्वामित्व एक अलग संगठन के पास था। इन कंपनियों-संगठनों ने अपने-अपने तरीके से टिकट के रेट बनाए। हालांकि, स्टेडियम खचाखच भरा हुआ था।

ये था मैच का परिणाम


पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत की शुरुआत खराब रही और दोनों सलामी बल्लेबाज गावस्कर-श्रीकांत बिना खाता खोले पवेलियन लौट गए। दिलीप वेंगसरकर के 85 गेंदों पर 46 रनों की मदद से भारत ने 7 विकेट पर 156 रन बनाए। भारतीय पारी के दौरान 11 चौके और 1 छक्का ही लगा। माइक गैटिंग ने 68 गेंदों पर 47, इयान बॉथम ने 13 गेंदों पर 25 रन बनाकर इंग्लैंड ने इस लक्ष्य को 43.5 ओवर में 5 विकेट से हासिल कर लिया।

महज एक ही अंतर्राष्ट्रीय मैच की मेजबानी कर सका ये स्टेडियम


सबसे बड़ी हैरानी की बात ये है कि नवरंगपुरा स्टेडियम में आयोजित होने वाला यह पहला और अंतिम एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच है। नवरंगपुरा स्टेडियम ने वर्ष 2007 में कई रणजी ट्रॉफी और इंडियन क्रिकेट लीग मैचों की मेजबानी की है। लेकिन कुछ यादें ऐसी होती हैं जिन्हें समय-समय पर फिर से जीने का मजा ही कुछ और होता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें