गुजरात विधानसभा चुनाव : इस बार इतनी महिला उम्मीदवारों को मिली टिकट, सबसे ज्यादा बीजेपी ने खड़े किये महिला उम्मीदवार

1990 के बाद से बीजेपी ने 6 महिलाओं को टिकट दिया है, जबकि कांग्रेस ने 7 महिलाओं को अलग-अलग सीटों से टिकट दिया है, हर बार बीजेपी की जीत

गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए अब कुछ ही दिन शेष बचे हैं। हर पार्टी अपनी तैयारियों को अंतिम रूप देने के प्रयास में हैं। बीजेपी के भी प्रमुख नेता गुजरात दौरे पर आकर अपने उम्मीदवारों को मजबूती प्रदान करने की कोशिश कर रहे हैं। इस बार विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने पहली बार 3 महिला उम्मीदवारों को टिकट दिया है। जिनमें से एक हैं ठक्करबपानगर से कचन रादडिया, नरोदा से डॉ असरवा से पायल कुकरानी और दर्शन वाघेला। इनमें से कंचन रडाडिया और डॉ पायल कुकरानी के पास व्यापक राजनीतिक अनुभव नहीं है।


दिलचस्प बात यह है कि 1990 के बाद से बीजेपी ने 6 महिलाओं को टिकट दिया है, जबकि कांग्रेस ने 7 महिलाओं को अलग-अलग सीटों से टिकट दिया है। जिसमें हर बार बीजेपी की जीत हुई है। जबकि कांग्रेस को हर बार हार मिली है। इस चुनाव में भी बीजेपी, कांग्रेस, आप, एमआईएम और निर्दलीय से 28 महिला उम्मीदवार मैदान में हैं। यह आंकड़ा भी पहली बार किसी चुनाव में देखा गया है। नरोदा शहर की उन 16 सीटों में से एक है जहां भाजपा ने 1998 से केवल महिला डॉक्टरों को टिकट दिया है। केवल 2017 में टिकट आवंटन नहीं हुआ था। 1990 में नरोदा सीट पर कांग्रेस डॉ गीताबेन ने दक्षिणी को टिकट दिया था लेकिन वह हार गईं।

कांग्रेस ने इस बार सिर्फ 2 महिला उम्मीदवारों को टिकट दिया


इस साल शहर की 16 सीटों पर बीजेपी ने सबसे ज्यादा 3 महिला उम्मीदवारों को उतारा है जबकि कांग्रेस ने 2 महिला उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है। जबकि आप ने एक भी महिला को टिकट नहीं दिया है। बीजेपी ने नरोडो सीट से पायल कुकरानी, ठक्करबपानगर से कंचन रदडिया, असरवा से दर्शनाबेन वाघेला को टिकट दिया है। घाटलोडिया, नारनपुरा में कांग्रेस ने महिला प्रत्याशी उतारा है। 23 महिलाएं निर्दलीय के रूप में चुनाव लड़ती हैं।

2017 में बीजेपी ने किसी महिला को टिकट नहीं दिया गया


2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने शहर की 16 में से 12 सीटों पर जीत हासिल की थी। इस चुनाव में बीजेपी ने शहर की 16 सीटों पर एक भी महिला को मैदान में नहीं उतारा, जबकि कांग्रेस ने मणिनगर में श्वेता भट्ट को टिकट दिया लेकिन वह हार गईं। 20 महिलाओं ने अन्य दलों और निर्दलीय के रूप में चुनाव लड़ा लेकिन कोई भी जीत नहीं पाई।

अहमदाबाद में बीजेपी की महिला उम्मीदवार ही जीत सकीं


बीजेपी ने अहमदाबाद सीट पर जब भी किसी महिला उम्मीदवार को खड़ा किया है, तो उसकी जीत हुई है। 1998 के बाद हुए पिछले 5 विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने 6 महिलाओं को टिकट दिया था, हर सीट पर जीत हासिल की थी। अहमदाबाद सीट पर सिर्फ बीजेपी पार्टी के उम्मीदवार ही विधायक बने हैं। बीजेपी ने पिछले 20 साल में पहली बार अहमदाबाद की 16 सीटों पर 3 महिलाओं को टिकट दिया है। नरोदा सीट से भाजपा के डॉ. मायाबेन कोडनानी 3 बार जीतीं

2 लाख महिला मतदाता के मुकाबले केवल एक महिला उम्मीदवार


आपको बता दें कि इस बार चुनाव में 16 सीटों पर 188 प्रत्याशी मैदान में हैं। जिनमें 28 महिलाएं और 160 पुरुष हैं। अहमदाबाद में 59.99 लाख मतदाता पंजीकृत हैं। जिनमें से महिला मतदाता 28.75 लाख और पुरुष मतदाता 31.17 लाख हैं। यानी 48 फीसदी महिला वोटरों के मुकाबले सिर्फ 28 महिलाएं मैदान में हैं। जहां तक महिला प्रतिनिधित्व का सवाल है, 19 हजार पुरुष मतदाताओं के मुकाबले 1.02 लाख महिलाओं के पास एक महिला उम्मीदवार और एक पुरुष उम्मीदवार है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें