इलेक्ट्रिक व्हीलर बैटरी चार्ज का बड़ा झमेला है, घर के अंदर चार्जिंग के लिए रखी बैटरी में विस्फोट हो गया और दादा जी की मौत हो गई!

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo : IANS)

हैदराबाद से बुरी खबर आई है। यहां पर शहर के निजामाबाद इलाके में एक घर के अंदर मालिक मकान द्वारा अपने इलेक्ट्रिक टू व्हीलर की बैटरी को चार्जिंग के लिए रखा गया था। रात के समय में जब घर के सदस्य सो रहे थे, उस वक्त बैटरी में विस्फोट हो गया और घर के बुजुर्ग 80 वर्षीय रामास्वामी का निधन हो गया। इस हादसे में मृतक के पोते और बहू घायल हो गए हैं। यह इलेक्ट्रिक स्कूटर बैटरी प्योर ईवी नामक कंपनी की थी और पीड़ित परिवार की ओर से बी प्रकाश की शिकायत पर पुलिस ने कंपनी के खिलाफ आईपीसी की धारा 304 ए के तहत मामला दर्ज किया है।
आपको बता दें कि प्योर ईवी स्कूटर की बैटरी में विस्फोट का यह हाल ही में तीसरा ऐसा मामला है। पिछले दिनों अन्य इलेक्ट्रिक स्कूटर में भी इसी प्रकार के हादसों की खबर आई थी। moneycontrol.com की एक रिपोर्ट के अनुसार इस बारे में प्योर ईवी के प्रवक्ता ने मीडिया में बयान जारी किया है और कहा है कि इस हादसे से कंपनी काफी व्यथित है और पीड़ित परिवार के प्रति संवेदना प्रकट करती है। कंपनी स्थानीय प्रशासन के साथ पूर्ण सहयोग कर रही है और उपभोक्ता से घटना के संदर्भ में पूरी जानकारी जुटाई जा रही है। यह घटना 2 दिन पहले हुई है। कंपनी ने आगे यह भी कहा है कि उनके पास इस स्कूटर की बिक्री या सर्विस के संदर्भ में कोई रिकॉर्ड नहीं है। कंपनी यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि कहीं यह स्कूटर सेकंड हैंड सेल का मामला तो नहीं?
रिपोर्ट के अनुसार विगत 13 अप्रैल को ही नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने अपना बयान जारी करके इलेक्ट्रिक व्हीकल के ओरिजिनल इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरर्स को स्वतः इस प्रकार के डिटेक्टिव बैच के वाहनों को वापस बुलाने का आग्रह किया था। उधर रोड ट्रांसपोर्ट और हाईवे मिनिस्टर नितिन गडकरी ने भी संसद में एक बयान के दौरान कहा था कि बढ़ते तापमान के कारण इलेक्ट्रिक वाहनों में आग की घटनाएं हो रही है। 
आपको बता दें कि पिछले दिनों तमिलनाडु के एक इलेक्ट्रिक व्हीकल शोरूम में भी ई स्कूटर में आग के कारण दुर्घटना हो गई थी। उस वक्त कंपनी ने 3215 ऐसे स्कूटर ओं को वापस बुलाया था। खैर उम्मीद की जानी चाहिए कि वर्तमान में e-vehicle के बढ़ते चलन के बीच बैटरी ओं में आग की बढ़ती घटनाओं के कारणों का पता लगाकर कंपनियां इसका ठोस निराकरण करेंगे। वैसे हैदराबाद के इस हासदे से एक सबक सभी को यह भी लेना चाहिये कि अपने इलेक्ट्रिक वाहनों की बैटरियों को चार्जिंग केे लिये घर के अंदर न लाएं। घर के बाहर ही पार्किंग क्षेत्र में इसके चार्जिंग की व्यवस्था करनी चाहिये।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें