इस देश में कुत्ते सूंघकर पहचान रहे हैं कोरोना पॉजिटिव इंसान

प्रतिकात्मक तस्वीर

इसके पहले भी कैंसर और मधुमेह की बीमारियों के लिए किया जाता था स्निफर डॉग्स का इस्तेमाल

हम सभी को मालूम है कि मनुष्य के मुकाबले कुत्तों की सूंघने की शक्ति काफी ज्यादा होती है। इस क्षमता के बदौलत ही सेना तथा पुलिस में उनका काफी इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि दुनिया के सबसे ताकतवर देशों में से एक अमेरिका में स्निफर कुत्तों का इस्तेमाल कोरोना संक्रमित इंसान को पहचानने के लिए किया जा रहा है। 
अब तक स्निफर डॉग का इस्तेमाल पुलिस तथा सेना द्वारा बम, आशंकित चीजें तथा इंसान तथा अलावा बर्फ में दबे हुए इंसानों को ढूंढने के लिए किया जाता था। हालांकि अमेरिका में अब विशेष तौर पर कोरोना पॉजिटिव मरीजों को पहचानने के लिए कुत्तों को ट्रेनिंग दी गई है। जिन व्यक्तियों में यह कुत्ते कोरोना वायरस की पुष्टि कर देते हैं उन्हें आरटी पीसीआर टेस्ट करने की जरूरत नहीं रहती।
बता दे की यह पहली बार नहीं है कि जब अमेरिका जैसे देश में किसी बीमारी को ढूंढने के लिए स्निफर डॉग का इस्तेमाल किया जा रहा हो। इसके पहले भी अमेरिका द्वारा कैंसर डायबिटीज जैसी बीमारियों को पहचानने के लिए स्निफर डॉग्स का इस्तेमाल किया जाता रहा है। इस प्रक्रिया को बायो डिटेक्शन या जैविक जांच भी कहा जाता है। इस तरह की जांच के लिए किसी भी रसायन या केमिकल की जरूरत नहीं पड़ती। 
अमेरिकन सरकार के नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफॉरमेशन के अनुसार स्वान अपनी दिव्य शक्ति की मदद से किसी भी पदार्थ के 1.5 खरब वाले अंश की भी पहचान सकता है। ऐसे में जब कोई बीमार पड़ता है तो उसके शरीर में से निकलने वाले खास प्रकार के वॉलेटाइल ऑर्गेनिक कंपाउंड को स्वान ढूंढ लेता है। जिसके चलते किसी भी कोरोना संक्रमित इंसान को स्वान उसके शरीर में से आने वाली विशेष गंध के अनुसार पहचान लेता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें