देसी दूल्हा, विदेशी दुल्हन: बिहार में संपन्न हुआ एक अनोखा विवाह

(Photo Credit : divyabhaskar.co.in)

फ्रांस की मेरी और बिहार के राकेश के बीच की छः साल की दोस्ती-प्यार को मिला अंजाम

प्रेम किसी सीमाओं का मोहताज नहीं है। प्रेम हर बंधन तोड़कर अपने मुकाम पर आ ही जाता है। ऐसा ही एक उदाहरण सामने आया है। दरअसल फ्रांस के पेरिस की एक युवती और बेगूसराय के एक युवक ने भारतीय संस्कृति के अनुसार पुरे रीति-रिवाज से शादी की। इसी के साथ इन दो परदेशी प्रेमियों की 6 साल में दोस्ती और प्यार को अपना अंजाम मिला।
आपको बता दें कि फ्रांस के पेरिस में रहने वाली एक युवती अपने प्रेमी से शादी करने बिहार के बेगूसराय आई थी। इन दोनों की भारतीय रीति-रिवाजों के अनुसार शादी संपन्न होने के बाद सोमवार को पूरे दिन विदेशी दुल्हन को देखने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी।
ये मामला भगवानपुर थाना क्षेत्र के कटाहरिया गांव का है जहां रामचंद्र साह के पुत्र राकेश कुमार की सनातन परंपरा के अनुसार पेरिस की व्यवसायी मैरी लोरी हरेल से शादी हुई थी। युवती पेरिस से शादी करने आई थी। इतना ही नहीं, लड़की के परिवार वाले भी साथ आ गए। दोनों अगले हफ्ते पेरिस लौटेंगे।
(Photo Credit : divyabhaskar.co.in)
दूल्हे राकेश कुमार के पिता रामचंद्र साहे ने कहा कि उनका बेटा दिल्ली में रहता था और देश के विभिन्न हिस्सों में एक पर्यटक गाइड के रूप में काम करता था। इसी बीच उसकी दोस्ती करीब 6 साल पहले भारत आई मैरी से हो गई। भारत से लौटने के बाद दोनों के बीच बातचीत जारी रही। धीरे-धीरे दोस्ती प्यार में बदल गई। राकेश भी करीब 3 साल पहले पेरिस चले गए थे। वहां उन्होंने मैरी के साथ साझेदारी में कपड़ा व्यवसाय शुरू किया। दोनों के बीच टेक्सटाइल बिजनेस के साथ साथ प्यार का व्यापार हुआ। जब मैरी के रिश्तेदारों को यह पता चला, तो उन्होंने उनकी शादी को मंजूरी दे दी।
शादी मूल रूप से पेरिस में तय की गई थी, लेकिन बहू मैरी को भारतीय संस्कृति से प्यार था। वह भारत आकर राकेश कुमार के गांव में शादी करने की योजना बनाई। इसके बाद मैरी अपने माता-पिता और राकेश के साथ गांव आ गई, जहां रविवार की रात भारतीय सनातन परंपरा के अनुसार दोनों ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ विवाह किया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें