कॉमनवेल्थ गेम्स 2022: कुश्ती के ट्रायल के दौरान रेसलर ने रेफरी को ही मुक्का मारा, फेडरेशन ने किया आजीवन बैन

इन दिनों राजधानी नई दिल्ली में बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 के लिए कुश्ती के ट्रायल आयोजित किए जा रहे हैं। इंदिरा गांधी स्टेडियम में भारतीय कुश्ती फेडरेशन की ओर से मंगलवार को आयोजित ट्रायल में पुरुष पहलवान अपने दांव लगा रहे थे, लेकिन इस दौरान ऐसी स्थिति पैदा हो गई, जिससे हर कोई भौंचक्का रह गया। इन ट्रायल में 125 किलोग्राम वर्ग में अपनी दावेदारी पेश कर रहे रेसलर सतेंदर मलिक ने मुकाबला हार जाने के बाद एक सीनियर रेफरी को मुक्का मार दिया। पहलवान की इस हरकत से हरकत कुश्ती फेडरेशन ने तुरंत कड़ा एक्शन लेते हुए सतेंदर पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया।
जानकारी के अनुसार मंगलवार 17 मई को पहलवान सतेंदर मलिक ने सर्विसेज की ओर से खेलते हुए फाइनल हारने के बाद रेफरी जगबीर सिंह पर हमला कर दिया। भारतीय वायु सेना का यह पहलवान फाइनल खत्म होने से 18 सेकंड पहले 3-0 से आगे था लेकिन विरोधी पहलवान मोहित ने उसे टेक-डाउन करने के बाद मैट से बाहर धकेल दिया। इससे मोहित को 3 पॉइंट्स मिलने थे, लेकिन रेफरी वीरेन्द्र मलिक ने मोहित को टेक डाउन के दो अंक नहीं दिये और इससे नाराज पहलवान ने फैसले को चुनौती दी।
आपको बता दें कि यह सारा ड्रामा भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह की नजरों के सामने हुआ, जो ट्रायल्स पर खुद नजर रख रहे थे। इस बवाल के बाद फेडरेशन अधिकारियों ने सतेंदर को हॉल से बाहर भेज कर 57 किलो वाला मुकाबला फिर से शुरू कराया। वहीं दूसरी ओर साल 2013 से शीर्ष स्तर के रेफरी रहे जगबीर सिंह इस घटना से सदमे में नजर आए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें