केंद्र सरकार ने किया दवाओं की राष्ट्रीय सूची में संशोधन, कैंसर, मधुमेह जैसी 39 बीमारियों की दवाओं के दाम हुए कम

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo : IANS)

सरकार ने 2013 में आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची को संशोधित करने पर काम शुरू, 2014 में हुआ लागू

केंद्र सरकार ने आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची में संशोधन किया है और आमतौर पर इस्तेमाल होने वाली छह दवाओं की कीमतों में कमी की है। जानकारी के अनुसार कैंसर, मधुमेह के साथ-साथ एंटीबैक्टीरियल, एंटीरेट्रोवायरल के साथ-साथ टीबी और कोरोना के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाओं के दाम कम कर दिए गए हैं। 
जानकारी के अनुसार आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची पर काम कर रहे विशेषज्ञों ने 18 दवाओं को सूची से हटा दिया है। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद लंबे समय से दवाओं की कीमतों पर नियंत्रण के लिए काम कर रही है। आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं में मधुमेह की दवाएं, टेनेलिप्टिन, टीबी की दवा, कोरोना के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा, आइवरमेक्टिन और रोटावायरस वैक्सीन शामिल हैं।
सरकार ने 2013 में आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची को संशोधित करने पर काम शुरू किया और 2014 में इसे लागू किया। सरकार सभी आवश्यक दवाओं को स्वचालित मूल्य नियंत्रण के तहत रखने की मौजूदा व्यवस्था को समाप्त करने जा रही है। नेशनल कमेटी ऑन मेडिसिन पर्याप्त मात्रा में आवश्यक दवाओं की सूची उपलब्ध कराने के लिए काम कर रही है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें