अमेरिका : तैयार हुआ मनुष्य का दिमाग पढ़ सकने वाला हेलमेट, जानिए कैसे करता है काम

(Photo: divyabhaskar.co.in)

कैलिफ़ोर्निया स्थित स्टार्ट-अप कर्नेल के संस्थापक ब्रायन जॉनसन ने बनाया ये हेलमेट, कीमत 37 लाख

आज के समय में विज्ञान हर क्षेत्र में अपना पांव पसार चुका है। विज्ञान की मदद से ऐसे ऐसे काम हो रहे हैं जिनके बारे में कल्पना करना भी मुमकिन नहीं था। ऐसा ही एक और काम निकट भविष्य में होने जा रहा है। मानव मस्तिष्क को पढ़ना एक जटिल प्रक्रिया हुआ करती थी, लेकिन अब यह काम एक हेलमेट कर दिखाएगा। अमेरिका में वैज्ञानिकों ने एक ऐसा हेलमेट विकसित किया है जो मानव मस्तिष्क को पढ़ने में सक्षम है। हेलमेट बनाने वाले ब्रायन जॉनसन का कहना है कि हेलमेट किसी व्यक्ति के दिमाग में क्या चल रहा है उसकी तस्वीर बनाने में कारगर है। उम्मीद है कि 2030 तक ऐसे सेंसर विकसित हो जाएंगे जो स्मार्टफोन से ज्यादा महंगे नहीं होंगे। फिलहाल मौजूदा हेलमेट की कीमत 37 लाख रुपये है।
(Photo: divyabhaskar.co.in)
आपको बता दें कि ब्रायन का कहना है कि इस हेलमेट को जल्द ही बाजार में उतारा जाएगा। मानसिक रूप से बीमार या स्ट्रोक के मरीजों के लिए यह हेलमेट वरदान साबित होगा। यह हेलमेट मस्तिष्क के न्यूरॉन्स का विश्लेषण करता है। साथ ही दिमाग की हर हरकत को पढ़ सकता है। कैलिफ़ोर्निया स्थित स्टार्ट-अप कर्नेल के संस्थापक ब्रायन जॉनसन ने कहा, "हम मानव मस्तिष्क को एआई (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) से जोड़ने के लिए इस परियोजना पर लंबे समय से काम कर रहे हैं। अब वह यात्रा समाप्त हो गई है।"
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जोन्स ने ऐसे 2 हेलमेट डिजाइन किए हैं। एक हेलमेट का कोडनेम 'फ्लो' और दूसरे का नाम 'फ्लक्स' है। वैज्ञानिकों का दावा है कि इसका सफल ट्रायल हो चुका है। एक आदमी के दिमाग में क्या चल रहा है, यह समझने के लिए हेलमेट अलग तरह से काम करता है। मस्तिष्क के रक्त में ऑक्सीजन को मापने के लिए फ्लो हेलमेट लेजर लाइट का उपयोग करते हैं। तो फ्लक्स हेलमेट 'चुंबक एन्सेफलोग्राफी' प्रक्रिया पर काम करता है। इस प्रक्रिया में हेलमेट मस्तिष्क के चुंबकीय क्षेत्र को रिकॉर्ड करता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें