ड्राइविंग लाइसेंस की फोटो कॉपी या फिर प्‍लास्‍टिक कार्ड पहुंचा सकता हैं आपकों जेल


ड्राइविंग लाइसेंस की फोटो कॉपी या फिर प्‍लास्‍टिक कार्ड वाले ड्राइविंग लाइसेंस लेकर घूम रहे हैं तो यह लाइसेंस आपकों जेल भेज सकते हैं।
Photo/Twitter

नई दिल्ली। यदि आप अपनी जेब में ड्राइविंग लाइसेंस की फोटो कॉपी या फिर प्‍लास्‍टिक कार्ड वाले ड्राइविंग लाइसेंस लेकर घूम रहे हैं तो यह लाइसेंस आपकों जेल भेज सकते हैं। ट्रैफिक नियमों के मुताबिक अगर आपकी जेब में चिप लगा हुआ लाइसेंस नहीं है तो उस अवैध माना जाएगा। ट्रैफिक पुलिसकर्मी चाहे तो इसके लिए आपको जेल की हवा खिला सकता है। परिवहन मंत्रालय की ओर से कई बार ड्राइविंग लाइसेंस को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए जाते रहे हैं। ट्रैफिक नियम के मुताबिक सड़क पर गाड़ी चलाने वाले हर शक्‍स के पास चिप लगा हुआ लाइसेंस होना चाहिए। चिपके हुए लाइसेंस का फायदा ये होता है कि इससे पता लगाया जा सकता है कि इससे पहले भी क्‍या वाहन चालक ने ट्रैफिक नियमों का उल्‍लंघन किया है। इसके बाद चालक पर कड़ी कार्रवाई की जा सकती है।

देश में करीब 20 लाख टीनएजर्स के ड्राइविंग लाइसेंस लेने के बाद भी अवैध तरीके से गाड़ी चला रहे हैं। इसका सबसे बड़ा कारण है कि टीएनएजर्स को जो लाइसेंस दिए जाते हैं उस लाइसेंस से 50 सीसी से कम क्षमता वाले वाहनों को चलाने की इजाजत होती है लेकिन भारत में बिना गेयर वाले वाहनों को गौर करे तो सभी 50 सीसी से दोगुना क्षमता के होते हैं। सड़क परिवहन मंत्रालय बहुत जल्‍द 50 सीसी क्षमता वाले इलेक्‍ट्रिक वाहन बाजार में उतारने की तैयारी कर रहा है। ये वाहन टीनएजर्स को ध्‍यान में रखकर बनाए जा रहे हैं। इन वाहनों की अधिकतम स्‍पीड 70 किमी प्रति घंटा रखी गई है।

– ईएमएस