पाकिस्तान से आई अच्छी खबर, विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई का एलान


नेशनल डेस्क। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने गुरुवार दोपहर घोषणा की कि पाकिस्तान भारतीय विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को शुक्रवार को छोड़ेगा। इमरान खान ने पाकिस्तान की संसद में कहा कि अभिनंदन वर्धमान को कल भारत को लौटा दिया जायेगा।

पुलवामा के सबूतों के डॉजियर मिलने की पाकिस्तान की पुष्टि

संसद के विशेष सत्र में इमरान खान ने इस बात की भी पुष्टि की कि पुलवामा आतंकी हमले के तार पाकिस्तान से जुड़े होने संबंधी सबूतों वाला भारत ने भेजा डॉजियेर पाकिस्तान को मिल गया है। हालांकि इमरान खान ने अपने भाषण में फिर कश्मीर का राग अलापा और कहा कि पुलवामा की घटना में स्थानीय कश्‍मिरियों का ही हाथ है।

इमरान खान ने अपने बयान में कहा है, ‘हम शांति चाहते हैं। एक सकारात्मक संकेत प्रेषित करने के इरादे से हम भारत के जवान को छोड़ रहे हैं। हम जंग नहीं चाहते और इसके लिये भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से बात करने की कोशिश भी की है। उन्होंने आगे यह भी जोड़ा कि वे शांति कायम करने की जो कोशिश कर रहे हैं, उसे उनकी कमजोरी नहीं समझा जाना चाहिये।

पहले पाकिस्तान ने अभिनंदन को छोड़ने के लिये शर्त रखी थी, भारत ने सौदेबाजी से किया था इंकार

इससे पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने गिरफ्तार पायलट को ‌रिहा करने के लिये शर्त रखी थी। उन्होंने कहा था कि यदि भारत वर्तमान तनाव की स्थिति को कम करने की दिशा में कदम बढ़ाता है, तो विंग कमांडर अभिनंदन को छोड़ने पर विचार किया जायेगा। इसके जवाब में भारत ने दो-टूक कहा था कि गिरफ्तार पायलट को रिहा करवाने के मामले में वह किसी सौदेबाजी में नहीं पड़ेगा।

कल शुक्रवार को वाघा बोर्डर के रास्ते भारत लौटेंगे अभिनंदन

जानकारी के अनुसार कल शुक्रवार को पाकिस्तान भारतीय विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा करेगा। उन्हें पंजाब के अमृतसर के पास भारत-पाक सीमा पर वाघा बोर्डर  पर भारत के हवाले किया जायेगा।

विंग कमांडर अभिनंदन के वीडियो यूट्यूब से हटे

उधर भारत सरकार ने यू-ट्यूब को आदेश दिया है कि वह पाकिस्तान में पकड़े गये विंग कमांडर अभिनंदन के तमाम ११ वीडियो तत्काल प्रभाव से डिलीट कर दे। आदेश का पालन करते हुए यूट्यूब ने सभी वीडियो हटा दिये हैं। ये वो वीडियो हैं जो पाकिस्तानी सीमा में पैराशूट के माध्यम से गिरने के बाद पाकिस्तानी सेना के द्वारा गिरफ्तार किये जाने तक स्थानीय लोगों, पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा बनाये गये थे। एक विडियो में पाकिस्तानी मैजर द्वारा उनसे सवाल-जवाब किया जा रहा था। जैसे ही ये वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर हुए, पूरी दुनिया में वायरल हो गये। इन वीडियो को युट्यूब पर भी अपलोड कर दिया गया था।