देश का यह बड़ा एयरपोर्ट 1 घंटे तक रहा ठप, न उड़ और न ही लैंड कर पाया कोई विमान


शनिवार को घने कोहरे का बड़ा असर बेंगलुरु एयरपोर्ट पर देखने को मिला। संचालन सुबह ६:३० से सुबह ७:३० बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया।
Photo/Twitter

नई दिल्ली। सदियां बढ़ने के साथ ही कोहरे का असर भी यातायात परिचालन व्यवस्था पर भी दिख रहा है। शनिवार को घने कोहरे का बड़ा असर बेंगलुरु एयरपोर्ट पर देखने को मिला। घने कोहरे के चलते कोहरे के कारण बेंगलुरु हवाई अड्डे का संचालन सुबह ६:३० से सुबह ७:३० बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। सभी उड़ानों में एक घंटे से अधिक की देरी हुई। कोहरे से निपटने के लिए दिल्ली हवाई अड्डे की तरफ से तैयारियां कर ली गई हैं। हवाई अड्डे का परिचालन करने वाली कंपनी ‘डायल’ राष्ट्रीय राजधानी में आगामी हफ्तों में संभवत: तीन-चार बार छाने वाले घने कोहरे से निपटने के लिए ‘बेहतर सुविधाओं से लैस’ है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी है। देश के सबसे व्यस्त इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (आईजीआईए) पर रोजाना करीब १३०० उड़ानों का परिचालन होता है।

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के महाप्रबंधक (विमान यातायात प्रबंधन) एस बी शर्मा ने कहा कि कोहरे के कारण हवाई अड्डे की क्षमता उड़ान के संदर्भ में घटकर सामान्य का महज ४० फीसद रह जाती है। भारतीय मौसम विभाग के निदशेक (आईजीआईए) आर के जेनामणि ने कहा कि दिसंबर के आखिरी हफ्ते में घना कोहरा छाने की संभावना है और यह भी संभावना है कि आगामी हफ्तों में तीन चार बार ऐसा हो। डायल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विदेह कुमार जयपुरियार ने कहा कि उनकी कंपनी कोहरे की स्थिति से निबटने के लिए पिछले साल की तुलना में इस बार ‘बेहतर सुविधाओं से लैस’ है। उन्होंने कहा कि हमारी टर्मिनल टीम उड़ान सूचना अद्यतन करती है, तथा यात्रियों एवं एयरलाइनों की अन्य जरुरतों का ख्याल रखती है। उन्होंने कहा कि टर्मिनलों पर अकस्मात यात्रियों की संख्या बढ़ने से निपटने के लिए डायल ने उन कमियों को दूर कर लिया है जो पिछले साल थीं। शर्मा ने कहा दिल्ली का आईजीआई हवाई अड्डा कोहरे के समय सुरक्षित ढंग से विमान परिचालन करने के लिए सुविधाओं से लैस है।

– ईएमएम