जेल में कटेगी राम रहीम की पूरी जिंदगी


हरियाणा के पंचकूला की सीबीआई अदालत ने पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड मामले में गुरमीत राम रहीम को उम्रकैद की सजा सुनाई।
Photo/Twitter
– पत्रकार की हत्या मामले में 20 साल बाद फैसला, 20 साल बाद शुरू होगी उम्रकैद
– यौन शोषण मामले में पहले से ही दुष्कर्म मामले में 20 साल की सजा काट रहे हैं

पंचकूला। हरियाणा के पंचकूला की सीबीआई अदालत ने पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड मामले में गुरमीत राम रहीम को उम्रकैद की सजा सुनाई। उसके साथ ही तीन अन्य दोषियों निर्मल, कुलदीप और किशन लाल को भी उम्रकैद की सजा सुनाई गई। विशेष जज जगदीप सिंह ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए फैसले में कहा- यह उम्रकैद की सजा दुष्कर्म मामले में दी गई 20 साल की सजा पूरी होने के बाद शुरू होगी। गौरतलब है कि आश्रम में कई महिलाओं से दुष्कर्म मामले में उसे 20 वर्ष की सजा हो चुकी है। सीबीआई ने पत्रकार हत्याकांड मामले में राम रहीम को फांसी की सजा देने की मांग की थी। निर्मल, कुलदीप और किशन लाल को दोषी करार दिया था। गौरतलब है कि राम रहीम इस वक्त दो साध्वियों से दुष्कर्म के मामले में रोहतक की सुनारिया जेल में उम्रकैद की सजा काट रहा है।

इस मामले में हुई सजा

एक साध्वी ने यौन शोषण मामले में कुछ पत्र लिखे गए थे, उन्हीं के आधार पर रामचंद्र ने अपने अखबार में खबरें प्रकाशित की थीं। 24 अक्टूबर 2002 को बाइक पर आए कुलदीप ने गोली मार दी थी। उसके साथ निर्मल भी था। जिस रिवॉल्वर से रामचंद्र पर गोलियां चलाई गईं, उसका लाइसेंस डेरा सच्चा सौदा के मैनेजर किशन लाल के नाम पर था। कोर्ट ने राम रहीम को हत्या की साजिश रचने का दोषी माना है। 21 नवंबर 2002 को दिल्ली के अपोलो अस्पताल में उनकी मौत हो गई थी। साल 2006 में यह मामला सीबीआई के हाथ में चला गया।

बेटे ने कहा- फैसले से संतुष्ट

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के बेटे अंशुल ने कहा- मैं आज राहत महसूस कर रहा हूं। हमने फांसी की सजा की मांग की थी, लेकिन अदालत के फैसले से हम संतुष्ट हैं। अदालत का फैसला सत्य की जीत है।

हिंसा भड़कने का डर, रात में आया फैसला

फैसले से पहले पंचकूला में सख्त सुरक्षा बरती गई। ड्रोन से हर तरफ नजर रखी गई। हरियाणा सरकार ने सीबीआई कोर्ट में याचिका दायर कर सजा की सुनवाई के दौरान राम रहीम की पेशी वीडियो कांफ्रेंसिंग से कराने की मांग की थी। सरकार ने दलील दी थी कि 25 अगस्त 2017 को जब डेरा प्रमुख को साध्वी यौन शोषण मामले में पंचकूला की स्पेशल सीबीआई कोर्ट में लाया गया था तो डेरे के समर्थकों ने दंगा कर दिया था। इसके बाद सुनवाई विडियो कांफ्रेंसिंग से हुई। इसके बाद सुनारिया जेल में अस्थायी कोर्ट बनाने का आदेश दिया गया। फैसले के मद्देनजर पंचकूला, रोहतक और सिरसा में सुरक्षा बढ़ा दी गई। रोहतक में सुनारिया जेल, पंचकूला में सीबीआई कोर्ट और सिरसा में डेरे की सुरक्षा कड़ी कर दी गई।

रामचंद्र के बेटे ने दर्ज कराई थी एफआईआर

रामचंद्र के बेटे अरिदनम छत्रपति ने 13 साल की उम्र में हिम्मत दिखाते हुए गुरमीत राम रहीम के खिलाफ इस मामले में एफआईआर दर्ज करवाई थी। 2002 के इस मामले में गुरमीत राम रहीम को मुख्य षडय़ंत्रकर्ता नामित किया गया है। 2003 में इस संबंध में मामला दर्ज किया गया था। इस मामले को 2006 में सीबीआई को सौंप दिया गया था। राम रहीम के एक पूर्व ड्राइवर खट्टा सिंह ने अपने बयान में कहा कि गुरमीत राम रहीम ने उसके सामने पत्रकार की हत्या करने के लिए बोला था। छत्रपति की मौत के बाद प्रदेशभर में प्रदर्शन हुए थे जिसपर जांच के आदेश दिए गए थे।

राम रहीम पर अन्य मामले

सीबीआई कोर्ट ने अक्टूबर 2018 में सामूहिक बंधियाकरण मामले में गुरमीत राम रहीम को जमानत दी थी। सीबीआई ने पुरुष अनुयायियों का कथित रूप से बंधियाकरण करने पर राम रहीम के खिलाफ चार्जशीट दायर किया था। इस मामले में राम रहीम एवं दो डॉक्टरों पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज हुआ। राम रहीम ने महिला अनुयायियों की तरफ पुरुषों का यौन झुकाव रोकने के लिए कथित रूप से उनका बंधियाकरण कराया। अर्जी में दावा किया गया बंधियाकरण के लिए पुरुष अनुयायियों को झांसा दिया गया।

2002 में राम रहीम पर लगा रेप का आरोप

एक महिला अनुयायी ने साल 2002 में राम रहीम पर उसका और दो अन्य महिलाओं का रेप करने का आरोप लगाया। महिला ने कहा कि जब वह राम रहीम के गोपनीय चैंबर में गई तो वह ब्लू फिल्म देख रहा था। इस घटना के बाद पीडि़त महिला ने तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के न्यायाधीशों को पत्र लिखा। पत्र में महिला ने राम रहीम पर रेप का आरोप लगाया। इसके बाद कोर्ट ने मामले की सीबीआई जांच के आदेश दे दिए। साल 2007 में जांच एजेंसी ने राम रहीम के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया। करीब 10 साल की लंबी सुनवाई के बाद पंचकूला की विशेष सीबीआई अदालत ने राम रहीम को रेप का दोषी पाया।

कौन है राम रहीम

राम रहीम 15 अगस्त 1967 को राजस्थान के श्रीगंगानगर में पैदा हुआ। राम रहीम अपने माता-पिता की इकलौती संतान है। वह शुरू में अपने पिता की खेती-बाड़ी में हाथ बंटाता था। राम रहीम की शादी हरजीत कौर के साथ हुई और उससे उसकी तीन बेटियां और एक बेटा है। ये सभी अपने नाम के पीछे इंसा लगाते हैं।

– ईएमएस