फानी चक्रवात के दृश्य दिखा रहे हैं कितनी भयंकर थी हवाओं की तीव्रता और शोर!


चक्रवाती तूफान फानी शुक्रवार सुबह ८ बजे ओड़िसा के पूरी के तट से टकराया। हवाएं कितनी तीव्र थीं, और शोर कितना भयंकर इसका अंदाजा अब सामने आ रहे तूफान के दृश्यों से लगा रहा है।

सुबह जब पूरी में चक्रवात ने दस्तक दी तब अपने घरों में कैद लोगों ने खिड़कियों से कुछ ऐसे दृश्य देख।

पुल से गुजर रहे दुपहिया वाहनचालक को उसका साथ पकड़ कर रखते हुए।

https://twitter.com/iamjhantu/status/1124171769668034561

भुवनेश्वर के एम्स अस्पताल की छत कुछ यूं उड़ गई।

रेलवे प्लेटफोर्म की हालत देखिये।

जगह-जगह सड़कों पर गिरे पेड़ों को हटा कर यातायात बहाल करने की मशक्कत भी जारी है।

राहत शिविरों में आसरा लिये लोगों को फुड पैकेट्स बांटे जा रहे है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्थिति से निपटने की तैयारियों की समीक्षा के लिए आयोजित उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। मोदी ने राजस्थान के करौली में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि वे चक्रवात की ताजा स्थिति से अवगत हैं। कल ही केंद्र सरकार ने संबंधित राज्यों को राहत और बचाव कार्य के लिये १ हजार करोड़ रुपये रीलीज कर दिये हैं। एनडीआरएफ, इंडियन कोस्ट गार्ड, सेना, नौसेना और वायु सेना की टीमें स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

गृह मंत्रालय द्वारा हेल्पलाईन नंबर 1938 जारी किया गया है। यहां तूफान से प्रभावित लोगों को मदद पहुंचाने के लिये संपर्क किया जा सकता है।

केंद्रीय रेल मंत्री पियुष गोयल ने अपने बयान में कहा है कि पूर्वी तट पर आये तूफान के कारण कुछ जगह पर रेल यात्रा प्रभावित हुई हैं, रेलवे स्थिति से निपटने के लिये तैयार है, कुछ ट्रेनों के मार्ग में परिवर्तन किया गया है तथा कुछ को उनके गंतव्य से पहले ही रोका गया है, जहां यात्रियों के लिये कैटरिंग, पानी व अन्य व्यवस्थायें की गयी हैं। वहीं प्रभावित क्षेत्रों में ईस्ट कॉस्ट रेलवे द्वारा आपदा नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है जिसका फोन नंबर है: – 1800-3457401 – 1800-3457402 विशाखापत्तनम और आस पास के क्षेत्रों के यात्रियों के लिये मुंबई तक विशेष ट्रेन चलाई जा रही है।

NEET2019 परीक्षाएं सर पर हैं। ओडिशा के जो विद्यार्थी इस परीक्षा में बैठने वाले हैं उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्रालय और मानव संसाधन विकास मंत्रालय से गुहार लगाई है कि प्रवर्तमान हालातों को देखते हुए परीक्षा दो-तीन दिनों के लिये टाल दी जानी चाहिये क्योंकि वे अपनी पढ़ाई पर फोकस नहीं कर पा रहे हैं।

पश्चिम बंगाल की ओर बढ़ रहा चक्रवात

ओड़िसा से गुजरने के बाद मंद पड़ा तूफान पश्चिम बंगाल की ओर बढ़ रहा है। इसका प्रभाव वहां सायं ४ बजे के आसपास नजर आयेगा। पश्चिम बंगाल के ८ जिलों के इससे प्रभावित होने की आशंका है। कोलकाता आने और जाने वाली फ्लाईट्स दोपहर ३ बजे से कल सुबह ८ बजे तक स्थगित कर दी गई हैं।

पूर्वी भारत के तटीय इलाके में सक्रिय चक्रवात की ताजा स्थिति इस लिंक पर मानचित्र पर लाईव देखी जा सकती है।