हज यात्रा पर जीएसटी घटने से हवाई किराए में आई कमी, बिना मेहरम जाएंगी 2300 महिलाएं


मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि भारत से 2,300 से भी अधिक मुस्लिम महिलाएं 'मेहरम' (पुरुष सहयोगी) के बिना हज यात्रा पर जाएंगी।
Photo/Twitter

नई दिल्‍ली। केन्द्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि आजादी के बाद पहली बार भारत से 2,300 से भी अधिक मुस्लिम महिलाएं वर्ष 2019 के दौरान ‘मेहरम’ (पुरुष सहयोगी) के बिना हज यात्रा पर जाएंगी। इसके साथ ही हज यात्रा को जीएसटी से मुक्त करने से हवाई किराए में भारी कमी आएगी। अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के हज प्रभाग के नए ऑफिस का राजधानी दिल्‍ली के आरके पुरम में उद्घाटन करने के दौरान केंद्रीय मंत्री ने यह जानकारी दी। उन्‍होंने कहा कि देश के विभिन्न राज्यों की 2340 मुस्लिम महिलाओं ने मेहरम के बिना हज जाने के लिए आवेदन किया है। इस वर्ष भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निर्देश पर अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय ने लॉटरी प्रणाली के बिना ही इन महिलाओं को हज पर भेजने की व्यवस्था की है।

केन्द्र सरकार ने पिछले साल पहली बार ‘मेहरम’ के बिना महिलाओं के हज यात्रा पर जाने पर लगे प्रतिबंध को हटा दिया था। इसके बाद 2018 में बिना किसी पुरुष सहयोगी के भारत की लगभग 1300 मुस्लिम महिलाएं हज करने गई थीं। इन महिलाओं को लॉटरी प्रणाली से छूट दी गई थी। उन्होंने कहा इस साल हज के लिए लगभग 2.67 लाख आवेदन प्राप्त हुए हैं, जिनमें से 1 लाख 64 हजार 902 आवेदन ऑनलाइन प्राप्त हुए हैं।

नकवी ने कहा आजादी के बाद पहली बार भारत से रिकॉर्ड संख्या में मुस्लिम हज यात्रा 2018 में गए थे, जबकि हज यात्रा पर दी जाने वाली सब्सिडी भी खत्म कर दी गई थी। इस साल भारत से रिकॉर्ड संख्या में 1 लाख 75 हजार 025 मुस्लिम हज यात्रा पर गए थे। इनमें सबसे ज्यादा लगभग 48 प्रतिशत महिलाएं हैं।

नकवी ने कहा हज यात्रा पर जीएसटी को 18 प्रतिशत से घटाकर 5 प्रतिशत कर दिया गया है। हज यात्रा पर जीएसटी घटने की वजह से हवाई किराए में भारी कमी आई है। इस वर्ष श्रीनगर से हवाई किराए में 11 हजार 377 रुपए और अहमदाबाद से 73 हजार 05 रुपए और 95 पैसे की कमी आएगी। इसी तरह औरंगाबाद, दिल्ली, गया, गुवाहाटी, रांची, कोलकाता और हैदराबाद से हवाई किराया क्रमश: 9 हजार 373 रुपए 68 पैसे, 7 हजार 967 रुपए 62 पैसे, 11 हजार 027 रुपए 85 पैसे, 13 हजार 049 रुपए 63 पैसे, 11 हजार 946 रुपए 84 पैसे, 9 हजार 787 रुपए 22 पैसे और 72 हजार 04 रुपए 87 पैसे घट जाएंगे। नकवी ने कहा कि हज प्रक्रिया को पूरी तरह ऑनलाइन-डिजिटल कर देने से पूरी हज प्रक्रिया को पारदर्शी और हज यात्रियों के अनुकूल बनाने में मदद मिली है। अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय ने सऊदी अरब हज वाणिज्य दूतावास, भारत की हज समिति और अन्य संबंधित एजेंसियों के सहयोग से हज यात्रा 2019 की तैयारियां निर्धारित समय से तीन माह पहले ही पूरी कर ली हैं, ताकि हज यात्रा इस साल सभी के लिए सुविधाजनक हो सके।

– ईएमएस