नोटबंदी और गब्बर सिंह टैक्स के चलते खून के आंसू रो रहा छोटा दुकानदार : राहुल गांधी


(Photo Credit : hindi.oneindia.com)

लोकसभा चुनाव के पांचवे चरण के मतदान से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पत्रकार वार्ता को संबोधित किया। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी पर कड़े राजनीतिक प्रहार किये।

राहुल गांधी ने कहा कि वे चुनाव प्रचार के दौरान जिन जगहों पर गये वहां आम लोगों और विशेष कर छोटे दुकानदारों की दयनीय स्थिति से रूबरू हुए। उन्होंने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी के कारण हालात बहुत बूरे हैं और छोटे दुकानदार खून के आंसू रो रहे हैं।

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी पर प्रहार करते हुए कहा कि २०१४ के बाद एक ऐसी छवि बन गई थी कि मोदी भ्रष्टाचार के खिलाफ अलख जगाने वाले नेता हैं लेकिन पिछले पांच वर्षों में यह छवि पूरी तरह से धूमिल हो गई है। राफेल डील में हुए भ्रष्टाचार से ‘चौकीदार चोर है’ का नारा एक वास्तविक हकीकत बन गया है। उन्होंने कहा कि मोदी की ऐसी छवि गढ़ दी गई थी कि उन्हें अब १०-१५ सालों तक कोई हरा नहीं सकता। लेकिन कांग्रेस पार्टी ने इस मिथ को चकनाचूर कर दिया है। मजबूत मोदी सरकार दरअसल एक खोखला ढांचा है जो अगले १०-२० दिनों में ढह जायेगा।

राहुल ने कहा कि जहां भाजपा के पास चुनाव में कोई ठोस मुद्दा नहीं है और केवल भारतीय सेना के किये कारनामों में स्वयं क्रेडिट लेकर मतदाताओं को लुभाने का काम कर रही है, वहीं कांग्रेस पार्टी ने अपना चुनावी घोषणापत्र जारी‌ किया है जिसमें आम लोगों से जुड़े हर जरूरी मुद्दे का जिक्र है। न्याय योजना का जिक्र करते हुए गांधी ने कहा कि यह समाज के हर वर्ग को प्रत्यक्ष-परोक्ष रूप से मदद करेगी। यूपीए सरकार के समय की गई सर्जिकल स्ट्राईल पर प्रधानमंत्री मोदी की ओर से की गई टिप्पणी को राहुल गांधी ने सेना का अपमान करार दिया।

पत्रकार परिषद में जब यह सवाल उठा कि यूपीए सरकार में राहुल गांधी के पूर्व बिजनेस पार्टनर को रक्षा सौदे में ‌ऑफसेट ठेका मिला था, राहुल गांधी ने अपने जवाब में कहा कि यदि ऐसा कुछ लगता है तो जांच करवा ली जाए। मैंने कुछ गलत नहीं किया है और हर प्रकार की जांच से गुजरने को तैयार हूं।

सुप्रीम कोर्ट में चौकीदार नारे से संबंध में माफी मांगने के प्रश्न पर राहुल बोले के सुप्रीम कोर्ट के हवाले से की गई मेरी टिप्पणी गलत थी और मेरी भूल के लिये मैंने माफी मांगी। मैंने भाजपा या मोदी जी से माफी नहीं मांगी है। ‘चौकीदार चोर है’ अब भी हमारा नारा रहेगा।

राहुल गांधी ने अपनी पत्रकार वार्ता के अंत में पत्रकारों के माध्यम से प्रधानमंत्री मोदी का आह्वान किया‌ कि वे कम से कम चुनाव प्रचार खत्म होने से पहले एक अदद पत्रकार परिषद को संबोधित कर लें।