गुजरात ATS को 2017 में संकेत मिले थे कि श्रीलंका में बड़ा आतंकी हमला होगा!


(PC : ontheworldmap.com)

अहमदाबाद। श्रीलंका में हुए सीरियल ब्लास्ट के बारे में बड़ा खुलासा हुआ है| गुजरात एटीएस द्वारा गिरफ्तार किए गए दो हेन्डलर से पूछताछ में यह खुलासा हुआ है| श्रीलंका में हुए ब्लास्ट की साजिश दो साल पहले रची गई थी और इसकी जानकारी भारतीय गुप्तचर एजेंसी के पास थी और उसने यह जानकारी श्रीलंका से साझा भी की थी| वर्ष 2017 में दी गई जानकारी और अलर्ट को श्रीलंका सरकार ने गंभीरता से लिया होता तो आतंकी हमला टाला जा सकता था| बता दें कि श्रीलंका में हुए सीरियल ब्लास्ट में साढ़े तीन सौ से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी|

गुजरात एटीएस ने वर्ष 2017 में सूरत के उबेद मिर्जा और अंक्लेश्वर के कासिम टिम्बरवाला के फेसबुक की जांच की थी| जिसमें श्रीलंका में सीरियल ब्लास्ट का खुलासा हुआ था| उबेद और कासिम आईएसआईएस हेन्डल के साथ सम्पर्क में होने का खुलासा 24 अक्टूबर 2017 में हुआ था| जिसमें श्रीलंका में विस्फोट करने के बारे में चर्चा हुई थी| उबेद सोशल मीडिया में काफी सक्रिय था और वह अपने नीचे कैडर तैयार कर रहा था| उबेद और कासिम भारत ही नहीं बल्कि श्रीलंका में भी अपनी टीम बना रहे थे|

हांलाकि गुजरात में उबेद और कासिम किसी घटना को अंजाम देते उससे पहले एटीएस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया| पकड़े गए उबेद और कासिम ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर हमला करने की योजना बनाई थी| साथ ही अहमदाबाद में इस्राइली धार्मिक स्थल पर लोन वुल्फ अटैक करने की साजिश भी रच रहे थे|

गुजरात एटीएस पता चला गया कि ये दोनों श्रीलंका में टीम बना रहे हैं| एटीएस को मिली जानकारी में उबेद श्रीलंका में आदिल नामक शख्स के संपर्क में था| आदिल श्रीलंका में कमांडर था और उसे पाकिस्तान में ट्रेनिंग दी गई थी| ये तीनों मिलकर श्रीलंका में आईएसआईएस की ओर से कुछ बड़ा करने की फिराक में थे| भारतीय गुप्तचर एजेंसियों के पास आदिल और उबेद के बीच हुई बातचीत के सबूत हैं|

हांलाकि उबेद श्रीलंका समेत हमलों की योजना बनाए उससे पहले गुजरात एटीएस के हाथ धर लिया गया था| भारतीय गुप्तचर एजेंसी की नजर आतंकवादियों की बातचीत पर थी और उसके आधार पर ही श्रीलंका को सचेत किया गया था| श्रीलंका हमले के तार जमैका से सीरिया, सीरिया से गुजरात और गुजरात से श्रीलंका तक जुड़े थे|

(इएमएस)