सिख दंगा- पेश हुए सज्जन कुमार, जिरह के लिए वकील न लाने पर कोर्ट ने लगाई फटकार


हाईकोर्ट ने सोमवार को दिल्ली कैंट के 1984 सिख दंगा मामले में सज्जन कुमार को उम्रकैद की सज़ा सुनाई थी।
Photo/Twitter

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में वर्ष-1984 में हुए सिख दंगे में आजीवन कारावास की कैद की सजा मिलने के बाद कांग्रेस के नेता रहे सज्जन कुमार पहली बार इसी से जुड़े दूसरे मामले में अदालत में पेश हुए। इस दौरान मीडिया की निगाह उन्हीं पर थी कि कोर्ट में वो क्या बोलेंगे, लेकिन उन्होंने मीडियाकर्मियों से कोई बात नही की। सभी सवालों पर मौन ही रहे। हाईकोर्ट ने सोमवार को दिल्ली कैंट के 1984 सिख दंगा मामले में सज्जन कुमार को उम्रकैद की सज़ा सुनाई थी। गुरुवार को इसी दंगे के सुल्तानपुरी से जुड़े मामले में दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई के दौरान आरोपी सज्जन कुमार पेश हुए। सुनवाई शुरू होते ही कोर्ट इस बात से सज्जन कुमार से नाराज़ हो गया कि जब उन्हें मालूम था कि आज सुनवाई है तो उनके वरिष्ठ वकील जिरह करने के लिए क्यों कोर्ट में नहीं आए।

पटियाला हाउस कोर्ट के स्पेशल जज ने आरोपी सज्जन कुमार को फटकार लगाते हुए पूछा कि जब आज मामले में सुनवाई थी तो उनके वरिष्ठ वकील जिरह करने के लिए क्यों नहीं आए। आरोपी सज्जन कुमार ने कोर्ट से कहा कि उनके वरिष्ठ वकील की आज तबियत ठीक नहीं है। इसके लिए वो पेश नहीं हो पाए है लिहाजा मामले में कोर्ट दूसरी तारीख दे दे। मामले में गवाह चाम कौर और उनके रिश्तेदार ने आरोपी सज्जन कुमार पर आरोप लगाया की केवल मामले में सुनवाई में देरी करने के लिए सज्जन कुमार के वकील आज कोर्ट नहीं आए। अब मामले की अगली सुनवाई 22 जनवरी को होगी।

जब मामले की सुनवाई पूरी हुई तो इस मामले में सिख दंगा पीड़ित पटियाला हाउस कोर्ट के बाहर इकट्ठा हो गए और उन्होंने सज्जन कुमार को फांसी दो के नारे लगाने शुरू कर दिए। सिख पीड़ितों ने इसके अलावा कमलनाथ को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा देने की भी मांग की। कोर्ट में सुनवाई के दौरान भी आज जब सिख पीड़ित बड़ी संख्या में इकट्ठा हो गए तो जज ने ऐतराज जताया और कहा कि जिन लोगों की गवाही होनी है या सीधे कैसे जुड़े हैं वही लोग कोर्ट में मौजूद रहे। बाकी लोग बाहर चले जाए।

1984 सिख दंगा के दौरान सुल्तानपुरी में कई लोगों की हत्या हुई थी। मामले की जांच सीबीआई कर रही है। अगली सुनवाई के दौरान सज्जन कुमार को वकील के साथ दोबारा पटियाला हाउस कोर्ट में पेश होना होगा। बहरहाल, पिछली सुनवाई में मामले में अहम गवाह चाम कौर ने कोर्ट में सज्जन कुमार की पहचान करते हुए गवाही दी थी कि सज्जन कुमार ने ही दंगा भड़काया था और उसके परिवार के सदस्यों की हत्या कराई थी।

– ईएमएस