धारा 377 – ‘मैं जैसा हूं मुझे उसी तरह स्वीकार करो!’


ऐतिहासिक फैसले में जजों ने शेक्सपियर से लेकर मंडेला तक को किया कोड

नई दिल्ली । देश की सर्वोच्च अदालत ने गुरुवार को एक ऐतिहासिक निर्णय देते हुए दो वयस्कों के बीच सहमति से बनाए गए समलैंगिक संबंध को अपराध के दायरे से बाहर कर दिया। मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के नेतृत्व वाली 5 जजों वाली संवैधानिक पीठ ने समलैंगिक संबंधों को अपराध मानने को मना कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने धारा 377 को मनमाना करार देते हुए व्यक्तिगत चुनाव को सम्मान देने की बात कही। देश की सर्वोच्च अदालत ने इस केस की गंभीरता देखते हुए 495 पेजों में अपना फैसला सुनाया। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस रोहिंटन नरीमन, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस इंदु मल्होत्रा की पीठ ने अलग से फैसला लिया जबकि जस्टिस एएम खानविलकर ने दीपक मिश्रा के फैसले से खुद को जोड़ा।

खास बात यह रही कि इस ऐतिहासिक फैसले के लिए जजों ने काफी ज्यादा होमवर्क किया था। फैसले में दुनियाभर की चर्चित कविता-कहानियों का जिक्र था, जिनमें शेक्सपियर से लेकर मंडेला तक शामिल थे। फैसले में नाटकों, गीतकारों, चितंकों और पूर्व के जजों के बयानों का भी हवाला दिया गया।

चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने फैसले के दौरान जर्मन विचारक जॉन वुल्फगांग गेटे को कोट करते हुए कहा, ‘मैं जैसा हूं मुझे उसी तरह स्वीकार करो’। इसके अलावा चीफ जस्टिस ने जर्मन दार्शनिक आर्थर शोपेनहॉवर के व्यक्तिवाद के सिद्धांत को भी अपने फैसले में रेखांकित करते हुए कहा, ‘कोई भी अपने व्यक्तिवाद से पीछा नहीं छुड़ा सकता’। दीपक मिश्रा के फैसले में रोमियो एंड जूलियट से लिए गईं शेक्सपियर की सदाबहार पंक्तियों का भी जिक्र था, जिसमें उन्होंने कहा, ‘नाम में क्या रखा है, अगर गुलाब को हम किसी और नाम से भी पुकारें तो वो ऐसी ही खूबसूरत महक देगा’। इसके अलावा सीजेआई ने मानवाधिकारों पर दक्षिण अफ्रीका के महान नेता और नस्लवाद के विरोधी नेल्सन मंडेला को भी कोट किया। ऐतिहासिक फैसले के दौरान जस्टिस रोहिंटन नरीमन ने समान सेक्स कपल पर टिप्पणी करते हुए लॉर्ड अल्फ्रेड डगलस की कविता की लाइन को कोट करते हुए कहा, अगर प्यार निडर है तो उसे किसी नाम की जरूरत नहीं’। इसके साथ ही उन्होंने शेक्सपियर के नाटक जुलियस सीसर से बुनियादी अधिकारों से जुड़ी कुछ बातों का भी जिक्र किया।

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने जीवन, प्यार और अपराधीकरण पर हाई कोर्ट की पहली महिला जज लीला सेठ के आर्टिकल का हवाला दिया। इसके अलावा उन्होंने अपने फैसले में लिओनार्ड कोहेन के गाने ‘डेमोक्रेसी’ का भी जिक्र किया। जस्टिस चंद्रचूड़ ने नैतिकता और न्याय के जिक्र करते हुए मार्टिन लूथर किंग जूनियर को भी कोड किया।