फांसी से डरे निर्भया गैंगरेप के दोषी विनय शर्मा, उपराज्यपाल बैजल के पास लगा दी अर्जी


(PC : Twitter)

फांसी की सजा को उम्रकैद में बदलने की मांग

नई दिल्ली (ईएमएस)। निर्भया गैंगरेप और मर्डर केस के दोषी विनय शर्मा ने फांसी से बचने के लिए एक और दांव चला है। फांसी से पहले विनय के वकील एपी सिंह ने दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल के पास अर्जी लगाकर विनय की फांसी को आजीवन कारावास में बदलने की मांग की है। एपी सिंह ने सेक्शन 432 और 433 के तहत पिटीशन फाइल की है और फांसी की सजा को उम्रकैद में बदलने की मांग की है।
इसके पहले दोषी मुकेश सिंह ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर अपने कानूनी उपाय बहाल करने का अनुरोध किया है। दोषी का आरोप है कि उसके वकील ने उसे गुमराह किया था। वकील मनोहर लाल शर्मा के माध्यम से दायर याचिका में मुकेश सिंह ने आरोप लगाया है कि केन्द्र , दिल्ली सरकार और न्याय मित्र की भूमिका निभाने वाली अधिवक्ता वृन्दा ग्रोवर ने ‘आपराधिक साजिश’ रची और ‘छल’ किया है जिसकी सीबीआई से जांच करायी जानी चाहिए।

20 मार्च को होनी है फांसी

दिल्ली की एक अदालत ने निर्भया के चारों दोषियों की फांसी तीन बार टलने के बाद गुरुवार को इसके लिए 20 मार्च की नई तारीख निर्धारित की है। दोषियों को 2013 में फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद इस मामले ने कई उतार-चढ़ाव देखे हैं। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेंद्र राणा ने निर्देश दिया कि मुकेश कुमार सिंह (32),पवन गुप्ता(25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31)को 20 मार्च सुबह साढ़े पांच बजे मृत्यु होने तक फांसी पर लटकाया जाए।