किसानों के ‘मुक्ति मार्च’ को पुलिस ने संसद मार्ग थाने पर रोका


हजारों किसानों की शुक्रवार को संसद मार्च की कोशिश को दिल्ली पुलिस ने गंतव्य से कुछ पहले ही रोक दिया है।
Photo/Twitter

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के रामलीला मैदान में कृषि संकट से निपटने के लिये कानून बनाने की मांग को लेकर बृहस्पतिवार से डेरा डाले देशभर से आए हजारों किसानों की शुक्रवार को संसद मार्च की कोशिश को दिल्ली पुलिस ने गंतव्य से कुछ पहले ही रोक दिया है। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के बैनर तले रामलीला मैदान से संसद मार्च कर रहे किसान आंदोलनकारी अब संसद मार्ग थाने पर ही सभा कर रहे हैं। आंदोलन का समर्थन कर रहे लगभग २०० किसान एवं सामाजिक संगठनों और २१ राजनीतिक दलों के नेता संसद मार्ग थाने पर ही किसानों को संबोधित करेंगे। लगभग १०.३० बजे लगभग ३५ हजार किसानों ने भारी सुरक्षा इंतजामों के बीच रामलीला मैदान से संसद भवन तक पैदल मार्च शुरु किया। दिल्ली पुलिस ने लगभग ३५०० पुलिसकर्मियों को सुरक्षा इंतजाम के लिये तैनात किया है। इस दौरान मध्य दिल्ली स्थित रामलीला मैदान से संसद मार्ग तक विभिन्न इलाकों में यातायात प्रभावित हुआ। पुलिस ने आंदोलनकारियों को सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुये संसद मार्ग थाने से आगे बढ़ने से रोक दिया।

समन्वय समिति के नेता वी.एम.सिंह, अतुल कुमार अनजान और योगेन्द्र यादव सहित अन्य नेताओं की अगुवाई में प्रदर्शनकारी किसानों का संसद मार्ग पहुंचना जारी है। किसान सभा को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, माकपा महासचिव सीताराम येचुरी, वरिष्ठ समाजवादी नेता शरद यादव और भाकपा नेता डी राजा सहित अन्य दलों के नेता संबोधित किया। समन्वय समिति के सचिव अशीष मित्तल ने बताया कि लगभग २४ राज्यों के किसान एवं अन्य सामाजिक संगठनों ने किसानों को कर्ज मुक्त कराने और उपज का डेढ़ गुना मूल्य दिलाने के लिये कानून बनाने की मांग को लेकर दो दिवसीय आंदोलन आयोजित किया है।

– ईएमएस

अगले पेज पर देखिये राहुल गांधी क्या कहते है?……