पीएम मोदी का संदेश – लॉक डाऊन को सिरीयसली लो!


(PC: ndtv.com)

देश में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिये युद्ध स्तर पर प्रयास कर रही केंद्र और राज्य सरकारें ऐसे नागरिकों से परेशान हैं, जिन्होंने कोरोना महामारी को मजाक बना रखा है। उन्हें इस बीमारी और संक्रमण के खतरे का एहसास ही नहीं है। रविवार के जनता कर्फ्यू के बाद जहां अधिकांश लोगों ने अपने घरों की बाल्कनियों से शंखनाद, घंटनाद और तालियों से कोरोना के सेवाकर्मियों का अभिवादन किया, वहीं कुछ लोग सड़कों पर निकल आए जैसे क्रिकेट का विश्वकप जीत लिया हो।

कुछ लोगों के इन्हीं तेवरों के कारण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी खफा हैं। सोमवार सुबह पीएम मोदी ने ट्वीट करके देशवासियों को संदेश दिया है कि वे लॉकडाऊन को सिरीयसली लें। मोदी ने लिखा-

‘लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। कृपया करके अपने आप को बचाएं, अपने परिवार को बचाएं, निर्देशों का गंभीरता से पालन करें। राज्य सरकारों से मेरा अनुरोध है कि वो नियमों और कानूनों का पालन करवाएं।’

पीएम मोदी ने राज्य सरकारों से कहा है कि वे कानून और व्यवस्था को कड़ाई से लागू करे।

कल जनता कर्फ्यू के दौरान शाम 5 बजे उत्तरप्रदेश के पीलीभीत के डीएम-एसपी थालियां बजाते हुए खुद सड़कों पर दिखे थे। उनके पीछे भीड़ चल रही थी।

हालांकि जब यह वीडियो देश भर में वायरल हुआ तो डीएम सफाई देते सुने गये और मीडिया की खबरों का खंडन करते हुए कहा कि डीएम-एसपी द्वारा जुलूस नहीं निकाला गया। कुछ जनता चूंकि बाहर आ गई थी अतः भावनात्मक जुड़ाव के द्वारा वहां से हटाया गया। चूंकि बल प्रयोग व्यावहारिक नहीं था।

खैर, कोरोना एक वैश्विक संकट है और सभी को प्रशासनिक नियमों और आदेशों का पालन करना चाहिये।