पेट्रोल डीज़ल के भावों में आने वाला है सैलाब, जानो क्यों


(Photo Credit : abntv.in)

एक तरफ लोकसभा चुनाव का प्रचार दिन-प्रतिदिन तेज होता जा रहा है, वहीं दूसरी ओर पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ रही हैं। ओपेक देशों द्वारा तेल उत्पादन में गिरावट और लीबिया में कच्चे तेल की मात्रा में कमी के कारण कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि देखी गई है। 9 अप्रैल को कच्चे तेल की कीमतें $ 71 तक पहुंच गईं। वैश्विक स्तर पर चल रहे आर्थिक मंदी की संभावनाओं के बीच तेल की मांग घट गई है।

(Photo Credit : irna.ir)

ऑपेक देश द्वारा तेल उत्पादन में कमी के बाद कच्चे ब्रेंट क्रूड ऑइल की कीमत में वर्तमान वर्ष में 30% की वृद्धि देखी गई है। ब्रेंट क्रूड ऑयल की कीमत 71.34 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गई है। यह कीमत पिछले पांच महीने की कीमत में सबसे अधिक है।

(Photo Credit : oilprice.com)

लीबिया में एक दिन में 11 मिलियन बैरल तेल का उत्पादन किया जाता है। यह दुनिया के तेल उत्पादन का एक प्रतिशत है। सूत्रों से मिली जानकारी से पता चला है कि अमेरिकी कच्चे माल की कीमतों में बढ़ोतरी के कारण कच्चे तेल की कीमत में वृद्धि हुई है। सूत्रों से यह भी जानकारी मिली है कि अगर यूएस इन्वेंट्री स्टॉक में कमी होती है तो जून में होने वाली ओपेक देश की बैठक में क्रूड उत्पादन बढ़ाने के लिए एक निर्णय लिया जाएगा।