चोटी कांड से बढ़ती दहशत; आगरा में चुडैल समझ वृद्धा की हत्या


मुरैना में रतजगा
महिलाओं की चोटी काटने की घटनाओं ने अब राष्ट्रीय चर्चा में जगह बनाई

नई दिल्ली । राजस्थान, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और हरियाणा के बाद अब मध्यप्रदेश के चंबल क्षेत्र में महिलाओं की चोटी काटने की घाटनाओं ने दहशत पैदा कर दी है। पिछले सप्ताह मोरैना जिले में चार महिलाओं की चोटी रहस्यमय तरीके से काट दी गई। इन चार गघटनाओं में तीन अकेले बुधवार को हुईं। इस घटना के बाद एक किशोरी और एक 50 वर्षीय वृद्धा इतनी आहत हुईं कि उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। चोटी काटने की घटनाओं को लेकर ग्रामीणों में तरह-तरह की अफवाहें हैं। कुछ लोग कहते हैं कि यह टोने टोटके जैसा काम है तो कुछ लोग इसके पीछे भूत जैसी किसी अदृश्य शक्ति का हाथ बताते हैं। जिन चार महिलाओं की चोटियां कटी हैं, उन्होंने बताया कि सर में तेज दर्द होने के बाद वे लेट गईं, जिसके बाद उन्हें नींद आ गई। जब वे नींद से जागी, तो उनके बाल कटे हुए थे। चोटी काटे जाने की घटनाओं ने इस बीच राष्ट्रीय चर्चाओं में जगह बना ली है। आगरा में चोटी काटने के शक में लोगों ने एक बुजुर्ग महिला की पीट-पीट कर हत्या कर दी है।

मुरैना जिले के लालौर गांव की रहने वाली रूबी ने बताया कि जब वह सुबह सो कर उठी, तो उसने पाया कि उसकी चोटी कटी हुई थी। इस घटना के बाद वह बहुत घर गई। मुरैना की संजय कालोनी में रहने वाली रेखा गुर्जर ने भी लगभग यही कहानी सुनाई कि जब वह सो कर उठी तो उसकी चोटी कटी हुई थी। इन घटनाओं के बाद से क्षेत्र में तरह-तरह की अफवाहें फैली हुई हैं। यह भी अफवाह है कि जिन महिलाओं की चोटी काटी गई है, उनकी जल्दी ही असामान्य मौत हो जाएगी। इससे इस घटना से प्रभावित हुई महिलाओं में भय व्याप्त है। इन अफवाहों से दहशत में आई रेखा की तबियत बहुत बिगड़ गई है। दोपहर बाद वह बेहोश हो गई, तो उसे अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। पिप्रोदा गांव की 21 वर्षीय पिंकी भी ऐसे ही हादसे का शिकार हुई है। चोटी काटे जाने के हादसे का चौथी शिकार एक 50 वर्षीय महिला है। यह महिला मंगलवार अपराह्न अपने घर में सो रही थी। सोते समय किसी ने उसके बाल काट दिए। इस घटना के बाद यह महिला इतनी दहशत में आ गईं कि उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। स्थानीय पुलिस ने बताया कि इस संबंध में अब तक कोई रिपोर्ट नहीं दर्ज करायी है, लेकिन उसने अफवाहों और उसके बाद पैदा हुए भय को देखते हुए स्वयं ही इस मामले की छानबीन की कोशिश की। पुलिस का मानना है कि इन घटनाओं के पीछे असामाजिक तत्वों का हाथ हो सकता है। चोटी काटने की सभी घटनाएं मुरैना शहर और आसपास के पंद्रह किलोमीटर के दायरे में हुई हैं।

चोटी काटने की घटनाएं अब राष्ट्रीय चर्चाओं में जगह बना चुकी हैं। लोग भारी दहशत में हैं और नींद खराब कर रात-रात भर जाग कर पहरा दे रहे हैं। उत्तर प्रदेश के मथुरा में फिर से चोटी कटने की घटना सामने आई है। उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले के नगला आख्खा गांव में लोग संभावित संकट से बचने के लिए रात भर जाग कर पहरेदारी कर रहे हैं। गांव में कल सुबह एक महिला की चोटी काट दी गई थी। इस घटना के बाद गांव के लोग दहशत में हैं। अफवाह है कि जिन महिलाओं के पति के नाम की शुरुआत न अक्षर से होती है, उनके ही बाल काटे जा रहे हैं। नगला आख्खा गांव के आस-पास के गांव में जिन तीन महिलाओं की चोटी कटी है, उनके पति के नाम निरपत सिंह, नवल सिंह और निरंजन सिंह हैं। खौफ से बाहर निकलने के लिए लोगों ने टोने-टोटके का सहारा लेना शुरू कर दिया है। शायद ही ऐसा कोई घर हो, जहां टोना टोटका नहीं किया गया होगा।

आगरा में चोटी काटे जाने का एक और मामला सामने आया है। आगरा के डौकी गांव में चुड़ैल होने के शक में 75 साल की बुजुर्ग महिला माना देवी की पीट पीटकर हत्या कर दी गई। माना देवी रात के अंधेरे शौच के लिए घर से बाहर निकली थीं। अंधेरा में रास्ता भटकर वह दूसरी बस्ती में चली गईं। वह विधवा थीं, इसलिए सफेद साड़ी पहन रखी थी। सफेद साड़ी की वजह से एक लड़की ने, उन्हें चुड़ैल समझ लिया और शोर मचा दिया।

हालांकि जिस परिवार पर माना देवी को पीटने का आरोप है, उस परिवार की महिला प्रकाशी देवी का कहना है कि माना देवी ने ही उनके बाल काटे हैं। दूसरी ओर आगरा और राजस्थान की सीमा पर मौजूदा मांगरोल जाट गांव में मिथिलेश नाम की महिला की चोटी कट गई। आगरा में भी चोटी काटने की घटना से हड़कंप है। डर, दहशत और अफवाह की वजह से अब लोगों की जान पर बन आई है। दिल्ली के तिलनगपुर कोटला इलाके में लोग बेहद डरे हुए हैं। परसों रात बगल के गांव कांगनहेड़ी में एक महिला की चोटी काट दी गई थी। गांव के लोगों ने बताया कि जब से यहां पर चोटी काटे जाने की घटना हुई है, तब से ही महिलाओं में दहशत है। लोग दस बजे के बाद घर से बाहर नहीं निकलते। यहां लोग रात-रात जाग कर पहरा दे रहे हैं।

हरियाणा के फरीदाबाद के सिकरी गांव में भी चोटी कटने की घटना से लोगों में दहशत का माहौल है। चोटी काटने की घटना ने पूरे गांव की नींद उड़ा दी है। फरीदाबाद में पिछले कुछ दिनों में महिलाओं की चोटी काटने की तीन घटनाएं सामने आई हैं। हिसार से भी कल चोटी कटने की एक घटना सामने आई है। हिसार के न्यू योग नगर निवासी कमला देवी के बाल सोते समय काट दिए गए। यहां अफवाह है कि जिन महिलाओं की चोटी काटी गई है, उनकी तीन दिन में मौत हो जाएगी। ऐसी अफवाहों से यहां दहशत का माहौल बन गया है। चोटी काटने की घटनाओं से राजस्थान भी अछूता नहीं है। चोटी कटने की घटनाओं से दहशतजदा लोगों ने राजस्थान के धौलपुर में बचाव के लिए टोने-टोटके का सहारा लेना शुरू कर दिया है। धौलपुर में प्राय: सभी घरों के बाहर चोटी कटने से बचने के लिए नीबू-मिर्च लटका दिए हैं या दीवार पर हल्दी की छाप लगाई है।