सरकार के कामकाज में खोट नहीं मिलता तो बौखलाहट में मुझे गाली देते हैं विपक्षी : मोदी


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मतदान करने के बाद उडीसा दौरे पर पहुंचे।
Photo/EMS

केंद्रपाड़ा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मतदान करने के बाद उडीसा दौरे पर पहुंचे। उडीसा में पहुंचकर पीएम मोदी ने कहा कि मैं आज सुबह गुजरात अहमदाबाद में वोट डालने गया था। अभी आपके पास वोट डालकर ही पहुंचा हूं। कितना भी काम हो, कितनी भी जिम्मेदारी हो, कैसी भी परिस्थिति हो, लेकिन वोट डालना कर्तव्य भी है, सौभाग्य भी है। आपने भी सरकारें केंद्र और राज्य में पहले कई देखीं हैं। लेकिन ये वे सरकार हैं, जिस पर पांच साल में भ्रष्टाचार का एक भी आरोप नहीं लगा है। जो झूठे आरोप लगाने की कोशिश कर रहे हैं वे आज खुद कटघरे में खड़े हैं। जो विरोधी हैं उनमें सरकार के कार्यों पर सवाल उठाने की ताकत नहीं है, इसलिए बौखलाहट में मुझे गाली देते हैं।

उन्होंने कहा कि देश मन बना चुका है, आप लोग मन बना चुके हैं। दिल्ली में फिर एक बार मोदी सरकार बने। बीजेडी बुरी तरह से बौखलाई हुई है। यही कारण है कि भाजपा के कार्यकर्ताओं पर हमले किए जा रहे हैं। मैं भाजपा के हर कार्यकर्ता को, ओडिशा के हर मतदाता को कहूंगा कि आप पूरी मजबूती से डटे रहिए। ओडिशा में बीजेडी का जाना, और भाजपा का आना तय है।

मैं ओडिशा के समझदार मतदाताओं का अभिनन्दन करता हूं क्योंकि उन्होंने परिस्थितियों को अच्छी तरह भांप लिया है और दिल्ली एवं भुवनेश्वर में डबल इंजन वाली भाजपा सरकार बनाने का निर्णय ले लिया है। ओडिशा का युवा जो पहली बार वोट डाल रहा है, वह अपनी आकांक्षाओं का ओडिशा चाहता है। वह अब सवाल पूछ रहा है कि आखिर ऐसा क्यों हुआ की देश के सबसे समृद्ध राज्य में इतनी गरीबी क्यों है?युवा जानना चाहता है कि यहां फसल को सुरक्षित रखने के लिए कोल्ड स्टोरेज क्यों नहीं बने? उसके मन में सवाल है कि ओडिशा की सबसे पुरानी नगरपालिका होने के बावजूद केंद्रपाड़ा सड़क, सीवर, बिजली, पानी की समस्या से क्यों जूझ रहा है।

ओडिशा में आपको सिर्फ सत्ता बदलने के लिए बदलाव नहीं करना है। बल्कि आपको एक बेहतर विकल्प और अपने बेहतर भविष्य के लिए सोचकर बदलाव करना है। ओडिशा का बड़ा हिस्सा समुद्री तट से घिरा है। यहां विकास की अनंत संभावनाएं हैं, उद्योगों की संभावनाएं हैं। इस पूरे तटीय इलाके को नए भारत के विकास का अहम सेंटर बनाने के लिए हम एक बड़े विजन के साथ काम कर रहे हैं। सागरमाला परियोजना के माध्यम से तटीय इलाकों में सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है और हमारे बंदरगाहों को अच्छी सड़कों और रेलवे नेटवर्क से जोड़ा जा रहा है। मछुआरों को आर्थिक मदद दी जा रही है। पहली बार मछुआरों को किसान क्रेडिट कार्ड की सुविधा दी गई है।

किसानों के लिए ही प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि नाम की एक बहुत बड़ी योजना भी हमने बनाई है। इसके अंतर्गत ओडिशा के लाखों किसानों को हर वर्ष सीधे बैंक खाते में पैसा दिया जाना तय हुआ है। लेकिन यहां की सरकार ऐसी विकास विरोधी और किसान विरोधी है कि वह किसानों की सही सूची देने से भी बच रही है।

आज गरीबों को अपना पक्का घर मिल रहा है। हमारा संकल्प है कि 2022 तक ओडिशा के हर गरीब के पास अपना पक्का घर होना चाहिए। ओडिशा के गांव-गांव के हर घर तक बिजली पहुंचाने का काम किया जा रहा है। हम ‘सबका साथ सबका विकास’ के मंत्र को लेकर आगे बढ़ रहे हैं। कोई भेदभाव नहीं, कोई तुष्टिकरण नहीं, कोई सिफारिश और कच्चे-पक्के काम नहीं। जो हो रहा है, वह सबके लिए हो रहा है।

– ईएमएस