ऑपरेशन ऑल आउट: अब पीर पंजाल में छिपे आतंकी


रामबन जिले का गूल इलाका को आतंकी संगठनों की ओर से फिर से इस शांत इलाके को निशाना बनाने की साजिश कर रहे ।
Photo/Twitter

जम्मू । रामबन जिले का गूल इलाका वर्ष 2007 के बाद से शांत रहा है। आतंकी संगठनों की ओर से फिर से इस शांत इलाके को निशाना बनाने की साजिश के हिस्सा के तहत ही लश्कर ने अपने दो आतंकियों को यहां भेजा था। घाटी में ऑपरेशन ऑल आउट के तहत सख्ती और लगातार आतंकियों के खात्मे की वजह से आतंकी तंजीमों ने अब नए इलाके में आतंकवाद की जड़ें फैलाने की साजिश रची है। इसी के तहत गूल इलाके का चयन किया गया है ताकि फिर से यहां आतंकवाद को जिंदा किया जा सके। चिनाब रीजन के साथ ही पीर पंजाल इलाके में फिर से आतंकवाद का दौर शुरू करने की साजिश का यह हिस्सा हो सकता है।

बताते हैं कि आतंकवाद के दौर में गूल में सभी आतंकी तंजीमें सक्रिय थीं। लश्कर ए ताइबा, हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकियों ने अपना वर्चस्व स्थापित करने के लिए ताबड़तोड़ कई घटनाएं कीं। 2004-2005 तक यहां आतंकी संगठन सक्रिय रहे। इस दौरान धीरे-धीरे सभी सक्रिय आतंकियों को सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में मार गिराया। 2007 के बाद से तो यह इलाका पूरी तरह आतंकी वारदातों से मुक्त हो गया। चूंकि यह पीर पंजाल की पहाडिय़ों में है। यहां की सीमा से दक्षिणी कश्मीर का कुलगाम जिला मिलता है, जो आतंकवाद के लिहाज से काफी संवेदनशील है। सुरक्षा एजेंसियों से जुड़े सूत्रों का मानना है कि घाटी में सख्ती से आतंकियों ने सुरक्षित स्थानों पर पनाह ले लिया है। अब उन्हें डर सताने लगा है कि मूवमेंट की जानकारी मिलते ही सुरक्षा बलों के हाथों मारे जा सकते हैं। इस वजह से अब आतंकी संगठनों ने जम्मू संभाग की ओर रुख करने की साजिश रची है।

– ईएमएस