ऑन लाइन चंदा लेने में वामदलों का दबदबा, कन्हैया कुमार हैं टॉप पर


लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी अपने खर्चों को पूरा करने के लिए पार्टी लाइन से इतर ऑन लाइन चंदा लेने में गुरेज नहीं कर रहे हैं।
Photo/Twitter

कोलकाता। लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी अपने खर्चों को पूरा करने के लिए पार्टी लाइन से इतर ऑन लाइन चंदा लेने में गुरेज नहीं कर रहे हैं। ऑन लाइन चंदा लेने वालों लोगों में बिहार के बेगूसराय संसदीय सीट से सीपीआई प्रत्याशी कन्हैया कुमार के अलावा नागपुर से कांग्रेस प्रत्याशी नाना पटोले, दिल्ली में आम आदमी पार्टी प्रत्याशी राघव चड्डा और बंगाल की रायगंज सीट से मोहम्मद सलीम प्रमुख हैं। ऑन लाइन क्राउड फंडिग का तरीका यूरोप में बहुत आम है। लेकिन भारत में यह काम 2017 में मणिपुर विधानसभा सीट में शुरू हुआ माना जाता है। देश में 1952 के बाद से हो रहे लोकसभा चुनावों में ऐसा पहली बार हो रहा है कि बड़ी संख्या में लोकसभा प्रत्याशी अपने व्यय को पूरा करने के लिए ऑन लाइन चंदा एकत्र कर रहे हैं। इसके जरिए पारदर्शिता बरतने का संदेश भी जा रहा है।

इस मामले में सबसे ऊपर कन्हैया कुमार ने 5,500 लोगों से करीब 70 लाख रुपए जुटा लिए हैं। उनके बाद पूर्वी दिल्ली से आप प्रत्याशी आतिशी का नाम है, जिन्होंने 50 लाख रुपए एकत्र किए हैं। आंध्रप्रदेश की प्रचूर सीट से बसपा प्रत्याशी पेडापुडी विजय कुमार इस सूची में तीसरे पायदान पर हैं और उन्होंने एक लाख 90 हजार रुपए जमा कर लिये हैं। वहीं सीपीएम के वरिष्ठ नेता मोहम्मद सलीम भी पीछे नहीं हैं। उन्होंने ऑन लाइन चंदे से एक लाख 40 हजार रूपयों का जुटान कर लिया है। दूसरे प्रमुख लोगों में आप पार्टी के पटियाला से प्रत्याशी धर्मवीर गांधी, आप के ही गोवा से प्रत्याशी एल्विस गोम्स, बसपा के एसएच बुखारी, सीपीआई-माले के राजू यादव और मुंबई से ट्रांस जेंडर प्रत्याशी स्नेहा काले भी शामिल हैं। कुमार के चुनावी अभियान प्रमुख रेजा हैदर ने कहा, ऑन लाइन चंदे से आप कम समय में अधिक पैसा जमा कर सकते हैं। ऑन लाइन चंदा एकत्र करने वाली मशहूर वेबसाइट ने 40 उम्मीदवारों का काम हाथ में लिया है और वह 17 हजार लोगों की मदद से 1.4 करोड़ जमा कर चुकी है। इसके सहसंस्थापक आनंद मंगनाले ने कहा कि लोगों ने जो उत्साह दिखाया है उससे उन्हें काफी प्रसन्नता है। यह वेबसाइट चंदे की पांच प्रतिशत राशि को काट कर शेष धन प्रत्याशी को दे देती है।

– ईएमएस