9 लड़कियों से रेप फिर हत्या का आरोपी बोला अपने किए पर कोई गम नहीं


गुरुग्राम में आधे दर्जन से अधिक नाबालिग लड़कियों से रेप और मर्डर चार्ज में पकड़े गए आरोपी सीरियल किलर सुनील से पुलिस पूछताछ जारी है।
Photo/Twitter

गुड़गांव। गुरुग्राम में आधे दर्जन से अधिक नाबालिग लड़कियों से रेप और मर्डर चार्ज में पकड़े गए आरोपी सीरियल किलर सुनील से पुलिस पूछताछ जारी है। पूछताछ में सुनील से पुलिस को पता चला है कि उसने नवंबर, २०१६ से अब तक कम उम्र की नौ लड़कियों से रेप और उसकी हत्या की है। इन नौ घटनाओं में से तीन गुड़गांव, चार दिल्ली, एक ग्वालियर और एक झांसी की है। पूछताछ में पुलिस को पता चला है कि सुनील ने सबसे पहले नवंबर, २०१६ में एक 4 साल की बच्ची की हत्या की थी। इसके बाद इस सीरियल कीलर ने २०१७ में गुड़गांव में एक 5 साल की बच्ची की हत्या की थी।

क्या बोल रहे है परिजन

मृत बच्ची के माता-पिता का कहना है कि शादी के २५ साल बाद उन्हें दो बच्ची हुई थी। उनका कहना है कि २५ साल के इंतजार के बाद हुई बच्ची को उन्हें मात्र पांच साल बाद खोना पड़ा। वो कहते हैं कि बच्ची के गायब होने के २० दिन बाद उसका मृत शरीर दिल्ली के राजीव चौक के पास मिला था। सुनील ने तीसरी बच्ची को गुड़गांव में इस साल नवंबर में मारा। लड़की की मां का कहना है कि कोई कैसे इस तरह से क्रूर हो सकता है। वो कहती हैं कि उनकी बच्ची रो रही होगी, लेकिन उसे बचाने वाला कोई नहीं था। लड़की की मां ने बताया कि उन्हें बच्ची का क्षत-विक्षत अवस्था में शरीर को घर के पास में मिला। वो कहती हैं कि बच्ची के बारे सोच कर ही वो पीड़ाओं से भर जाती हैं।

पुलिस से पूछताछ के दौरान सुनील की आंखों में न कोई पश्चाताप है और न ही कोई गम। वो पुलिस की आंखों में आंखें डालकर सारे सवालों के जवाब देता है। वो कहता है ‘हां, मैंने ये सब किया, मैं क्या कर सकता हूं’। पुलिस के मुताबिक सीरियल किलर सुनील किसी स्थाई घर में नहीं रहता था और कहीं भी रह कर दिन गुजारता था। वो खाने के लिए भंडारे में जाता था और कहीं भी सो जाता था। गुड़गांव पुलिस ने सुनील के क्रूर कारनामों का पता लगाने के लिए शहर में १० साल से कम उम्र की लापता हुई तमाम बच्चियों के केस को फिर से खंगाला है। पुलिस सुनील के हर काले कारनामे का खुलासा करना चाहती है।

सुनील ने पुलिस को पूछताछ के दौरान बताया कि वह बहुत शराब पीता है। पुलिस को कहा कि वह कम उम्र की लड़कियों को इसलिए निशाना बनाता था, क्योंकि उसे लगता था कि इन मामलों में लड़कियां क्राइम के बारे में ठीक से बता नहीं पाएंगी और वह बच जाएगा। जब पुलिस ने उससे यह पूछा कि क्या कोई भी लड़की बची होगी तो उसने कहा कि ऐसा नहीं हुआ होगा।

– ईएमएस