इस वर्ष मानसून सामान्य से कमजोर होने की संभावना, जानों कब दस्तक देगा मानसून


(Photo Credit : indiatoday.in)

निजी एजेंसी स्काईमेट ने कहा, 2019 में मानसून सामान्य से कम रहने की उम्मीद है। कम वर्षा का अनुमान 50% है, जबकि सूखे का अनुमान 20% रखा गया है। स्काईमेट ने अनुमान लगाया है कि इस वर्ष का मानसून 91% होगा।

एजेंसी के मुताबिक, मानसून अपने सामान्य समय पर ही दस्तक दे सकता है। हालांकि यह शुरू में कमजोर होगा, भारत में पहली बारिश 22 मई को अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में होने की संभावना है। आमतौर पर मानसून 20 मई से शुरू होता है। केरल में इस वर्ष मानसून 4 जून तक पहुंच सकता है। मध्य भारत में, सामान्य के मुकाबले 91% वर्षा होगी। विदर्भ, मराठवाड़ा, पश्चिम मध्य प्रदेश और गुजरात में सामान्य से कम बारिश होने की संभावना है। जिसके कारण, मराठवाड़ा और गुजरात के कुछ क्षेत्रों में सूखे की स्थिति खराब हो जाएगी।

स्काईमेट के मैनेडिंग डायरेक्टर जतिन सिंह के अनुसार, हम 2019 में चारों क्षेत्रों में मानसून के कमजोर प्रदर्शन को देख रहे हैं। पूर्वी, उत्तरपूर्वी और मध्य भारत में कम वर्षा होने का अनुमान है, जबकि उत्तर-पश्चिम और दक्षिण भारत में कम चिंता है। इससे पहले स्काइमेट ने 3 अप्रैल को मानसून के सामान्य से 93% रहने की भविष्यवाणी की थी। मानसून के सामान्य से कम रहने की 55% संभावना है।