रेल यात्रियों से जबरन वसूली को लेकर ७३ हजार से अधिक किन्नर गिरफ्तार


यात्री अक्सर चलती रेलगाड़ियों में किन्नरों द्वारा परेशान किए जाने और जबरन पैसे वसूली करने को लेकर शिकायत करते हैं।
Photo/Twitter

नई दिल्ली। रेल मंत्रालय ने आरटीआई के तहत पूछे एक सवाल के जबाव में कहा कि पिछले ४ वर्षाें में रेल यात्रियों से जबरन पैसे वसूली को लेकर ७३,००० से अधिक, यानि हर दिन औसतन ५० किन्नरों को गिरफ्तार किया है। अधिकारियों का कहना है कि यात्री अक्सर चलती रेलगाड़ियों में किन्नरों द्वारा परेशान किए जाने और जबरन पैसे वसूली करने को लेकर शिकायत करते हैं। किन्नरों को पैसे देने से मना करने पर कुछ यात्रियों का शारीरिक उत्पीड़न करने का भी मामला सामने आया है। रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) इस तरह के मामलों की जांच के लिए नियमित रूप से विशेष अभियान चला रहा है।

रेल मंत्रालय का कहना है कि इस वर्ष जनवरी में १,३९९ किन्नरों को गिरफ्तार किया है। उन्होंने कहा कि रेलवे की सुरक्षा व्यवस्था का मामला राज्य के अंतर्गत आने के नाते, चलती रेलगाड़ियों के साथ-साथ रेलवे परिसर में अपराध की रोकथाम, मामलों का पंजीकरण, उनकी जांच और कानून-व्यवस्था बनाए रखना राज्य सरकारों की संवैधानिक जिम्मेदारी हैं, जिनका वे राजकीय रेल पुलिस (जीआरपी) के माध्यम से पूरा करते हैं। भारतीय रेलवे दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी रेलवे प्रणाली है, जो लगभग ६५,००० किलोमीटर को कवर करती है, जिसके अंतर्गत ८,००० से अधिक स्टेशन आते हैं और प्रतिदिन करीब १९,००० रेलगाड़ियां चलती हैं।

रेलवे नेटवर्क को १६ मुख्य क्षेत्रों

मध्य रेलवे, पूर्व मध्य रेलवे, पूर्वी तट रेलवे, पश्चिम रेलवे, उत्तर मध्य रेलवे, उत्तर पूर्व रेलवे, उत्तर पश्चिम रेलवे, उत्तर पूर्व सीमांत रेलवे और उत्तर रेलवे में विभाजित किया है। इनके अलावा, दक्षिण मध्य रेलवे, दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे, दक्षिण पूर्व रेलवे, दक्षिण पश्चिम रेलवे, दक्षिणी रेलवे, पश्चिम मध्य रेलवे और पश्चिमी रेलवे अन्य ज़ोन हैं।

– ईएमएस