मीडिया ने मेरे शब्दों को तोड़-मरोड़ कर पेश किया : थरूर


File Photo: IANS

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता शशि थरूर ने मीडिया पर राम मंदिर मुद्दे पर उनके शब्दों को तोड़-मरोड़ कर पेश करने का आरोप लगाया और जोर देकर कहा कि जो भी उन्होंने कहा वह उनके विचार हैं न कि उनकी पार्टी के।

थरूर ने सोमवार को एक ट्वीट में कहा, “मैं अपने राजनीतिक आकाओं की सेवा में लगी कुछ मीडिया द्वारा मेरे शब्दों को द्वेषपूर्ण रूप से तोड़-मरोड़कर पेश करने की निंदा करता हूं। मैंने कहा था, ‘अधिकतर हिंदू मंदिर चाहते हैं क्योंकि वे इसे राम का जन्मस्थान मानते हैं। लेकिन कोई भी अच्छा हिंदू नहीं चाहेगा कि किसी अन्य के पूजा स्थल को ध्वस्त कर इसका निर्माण किया जाए।”

उन्होंने कहा, “एक साहित्यिक महोत्सव में मेरे निजी विचार पूछे गए थे और मैंने वही दिए। मैं अपनी पार्टी का प्रवक्ता नहीं हूं और न ही उसके लिए बोलने का दावा करता हूं।”

इससे पहले थरूर की तथाकथित टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा था कि वह यह जानकर ‘हतप्रभ’ हैं कि शशि थरूर का मानना है कि ‘असली हिंदू अयोध्या में राम मंदिर नहीं चाहते हैं।’

जावडेकर ने कहा, “यह थरूर या राहुल गांधी के विचार हो सकते हैं, लेकिन आम आदमी के नहीं। यह दिखाता है कि वे कैसे वास्तविकता से कटे हुए हैं।”

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण पर कांग्रेस सांसद शशि थरूर के ताजा बयान पर भाजपा सांसद सुब्रह्मणयम स्वामी ने कड़ी प्रतिक्रिया की है। स्वामी ने इस बयान के लिए थरूर को ‘नीच आदमी’ तक कह दिया है। सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि सुनंदा पुष्कर की हत्या मामले में शशि थरूर के खिलाफ चार्जशीज दायर हो चुकी है, वह नीच आदमी है। उन्हें जेल होगी।

उन्होंने कहा कि थरूर को राम मंदिर और हिंदुत्व के बारे में काई जानकारी नहीं है। देश का हर साधू-संत अयोध्या में राम मंदिर बनते देखना चाहता है।

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी थरूर के इस बयान का समर्थन नहीं करेगी। वह खुद को इससे अलग कर लेगी। थरूर ने बिना सोचे समझे यह बयान दिया है। इसी साल 21 सितंबर को कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने हिंदू धर्म की तारीफ की थी। उन्होंने कहा था हिंदू एक अनोखा धर्म है और यह संशय के मौजूदा दौर के लिए अनुकूल है।

थरूर ने धर्म के राजनीतिकरण की बखिया भी उधेड़ी। न्यूयॉर्क में जयपुर साहित्य महोत्सव के एक संस्करण में के बातचीत सत्र के दौरान गुरुवार को थरूर ने कहा कि हिंदूधर्म इस तथ्य पर निर्भर करता है कि कई सारी बातें ऐसी हैं जिनके बारे में हम नहीं जानते हैं।

-आईएएनएस