मीटू- आलोक नाथ मामले में 20 वर्षीय अंतराल के बाद होगा विनता का शारीरिक परीक्षण


विनता ने आलोक नाथ पर एक से ज्यादा बार रेप करने का आरोप लगाया था। 20 साल बाद पुलिस ने विनता को मेडिकल टेस्ट के लिए बुलाया है।
(Photo: IANS)

नई दिल्ली। बॉलीवुड के चरित्र अभिनेता आलोक नाथ की संस्कारित बाबूजी वाली छवि को राइटर-प्रोड्यूसर विनता नंदा के मीटू के आरोप ने ध्वस्त कर दी है। मामले को लेकर आलोक नाथ के खिलाफ हाल ही में एफआईआर दर्ज की गई। उन पर राइटर-प्रोड्यूसर विनता नंदा से रेप का आरोप है। 8 अक्टूबर को फेसबुक पोस्ट में किए खुलासे में विनता ने आलोक नाथ पर एक से ज्यादा बार रेप करने का आरोप लगाया था। अब घटना के 20 साल बाद पुलिस ने विनता को मेडिकल टेस्ट के लिए बुलाया है। एक पत्रकार से बातचीत में विनता ने आलोक नाथ मामले पर बयान दिया। उन्होंने कहा, मुझे लगता है इस केस में ज्यादा डेवलपमेंट नहीं हुआ है। पुलिस शिकायत दर्ज कराने के 3 हफ्ते बाद उन्होंने मुझे बुलाया और कहा कि अब हम एफआईआर दर्ज करेंगे। एफआईआर फाइल होने के बाद आलोक नाथ को गिरफ्तार किया जाता या मामले की तहकीकात की जाती, लेकिन सारी चीजें मुझ पर दोबारा आ गई हैं।

वे कहती हैं, अब मुझे मेडिकल टेस्ट के लिए बुलाया गया है, वो भी 20 साल बाद, मैंने अखबार में देखा जहां उन्होंने कहा था कि मुझे मेडिकल चेपअप से गुजरना पड़ेगा। इसके बाद ही केस आगे बढ़ पाएगा। पिछले दिनों सिंटा (सिने एंड टीवी आर्टिस्ट्स एसोसिएशन) ने आलोक नाथ की सदस्यता खत्म की थी। उन्होंने ट्वीट कर स्टेटमेंट में लिखा- मिस्टर आलोक नाथ के खिलाफ कई सारे सेक्सुअल हैरेसमेंट के आरोप सामने के बाद सिंटा की एक्जीक्यूटिव कमेटी ने उन्हें संगठन से निष्कासित करने का फैसला किया है। गौरतलब है कि पिछले दिनों तनुश्री दत्ता के आरोपों के बाद विनता नंदा ने फेसबुक पर अपनी आपबीती साझा की थी। विनता ने शुरू में आलोकनाथ का नाम नहीं लिया, लेकिन बाद में उन्होंने एक्टर का नाम भी लिया और कई संगीन आरोप लगाए। विनता ने कहा था, उन्होंने मेरे साथ शारीरिक दुर्व्यवहार किया। मैं 1994 में टीवी के नंबर वन शो ‘तारा’ को लिख रही थी और इसका प्रोडक्शन कर रही थी। वह मेरी लीड गर्ल के पीछे थे। लड़की की उनमें कोई दिलचस्पी नहीं थी। एक सीन के दौरान आलोक पहले तो सेट पर शराब पीकर आए और उसके बाद शॉट के दौरान नवनीत पर गिर पड़े, जिसके बाद नवनीत ने उन्हें थप्पड़ मारा।

विनता ने बताया कि एक बार वह आलोक नाथ के घर पर हुई पार्टी में शामिल हुई। वहां से देर रात दो बजे के करीब घर जाने के लिए निकलीं। ड्रिंक में कुछ मिला दिया गया था। रास्ते में उस शख्स ने गाड़ी रोकी, जो खुद चला रहा था और कहा कि मैं उनकी गाड़ी में बैठ जाऊं, मुझे घर छोड़ देगा। मैं उस पर भरोसा करके गाड़ी में बैठ गई। नंदा ने कहा, इसके बाद मेरे मुंह में और ज्यादा शराब डाली गई और मेरे साथ काफी हिंसा की गई। अगले दिन जब दोपहर को मैं उठी, तो मैं काफी दर्द में थी। मेरे साथ सिर्फ दुष्कर्म ही नहीं किया गया था बल्कि मुझे मेरे घर ले जाकर मेरे साथ नृशंस व्यवहार किया गया था।

– ईएमएस