23 मई को पता चलेगा नरेन्द्र मोदी बनेंगे प्रधानमंत्री या फिर कोई और


(Photo Credit : twitter/@airnewsalerts)

7 चरणों में लोकसभा चुनाव, 23 मई को आएंगे नतीजे 

  • लोकसभा चुनाव की तिथियों का एलान
  •  यूपी की 80 सीटों के लिए 7 चरणों में होंगे लोकसभा चुनाव
  • 10 लाख पोलिंग बूथों पर 90 करोड़ लोग डालेंगे वोट

नई दिल्ली (ईएमएस)। लोकसभा चुनाव का रविवार को एलान कर दिया गया। चुनाव 7 चरणों में संपन्न होंगे। 23 मई को चुनाव के नतीजे आएंगे। ऐसे में कहा जा सकता है कि आगामी २३ मई को पता चलेगा कि नरेन्द्र मोदी फिर प्रधानमंत्री बनेंगे या ‌ििकोई और।

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने लोकसभा चुनाव की तारीखों का एलान करते हुए कहा कि उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में चुनाव सात चरणों में संपन्न होंगे। यूपी में 11 अप्रैल, 18 अप्रैल, 23 अप्रैल, 29 अप्रैल, 6 मई, 12 मई और 19 मई को लोकसभा चुनाव होंगे। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि पहले चरण की वोटिंग 11 अप्रैल को 20 राज्यों के 91 लोकसभा सीटों पर होगी। वहीं, दूसरे चरण की वोटिंग 18 अप्रैल को 13 राज्यों की 97 लोकसभा सीटों पर होगी। तीसरे चरण की वोटिंग 23 अप्रैल को 14 राज्यों की 115 लोकसभा सीटों के लिए होगी। वहीं, चौथे चरण की वोटिंग 29 अप्रैल को 9 राज्यों की 71 लोकसभा सीटों के लिए होगी। पांचवा चरण की वोटिंग 6 मई को 7 राज्यों की 51 लोकसभा सीट के लिए होगी। छठे चरण की वोटिंग 12 मई को 7 राज्यों की 59 लोकसभा सीट के लिए होगी, जबकि सांतवें चरण की वोटिंग 19 मई को 8 राज्यों की 59 लोकसभा सीटों पर होगी। इसके बाद 23 मई को चुनाव के नतीजे आएंगे।

10 लाख होंगे पोलिंग बूथ

मुख्य चुनाव आयुक्त ने जानकारी दी कि 17वें लोकसभा चुनाव के लिए 10 लाख पोलिंग बूथ बनाए गए हैं। 90 करोड़ लोग इस चुनाव में वोट डालेंगे। उन्होंने कहा कि हर पोलिंग बूथ पर वीवीपैट का इस्तेमाल होगा। सभी संवेदनशील इलाकों में सीआरपीएफ तैनात होगी। कंट्रोल रूम में 24 घंटे टोल फ्री नंबर्स पर बातचीत हो सकेगी। पोलिंग अधिकारियों की गाड़ी में जीपीएस लगा होगा। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने लोकसभा चुनाव के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी की जो कि 1950 है। उन्होंने कहा कि आंध्र प्रदेश, अरुणाचल और उत्तराखंड में एक चरण में मतदान होंगे।

उत्तर प्रदेश में हैं लोकसभा की 80 सीटें

दिल्ली की राजनीति की कुर्सी उत्तर प्रदेश से होकर ही गुजरती है। सूबे में लोकसभा की 80 सीटें हैं। प्रदेश में सपा और बसपा गठबंधन, भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ चुनावी मैदान में है। समाजवादी पार्टी 37 सीटों पर चुनाव लड़ रही है जबकि बहुजन समाजवादी पार्टी 38 सीटों पर लोकसभा चुनाव लड़ रही है। तीन सीटों पर गठबंधन की साथी आरएलडी चुनाव लड़ रही है। सपा-बसपा गठबंधन ने सूबे में दो सीटें छोड़ी है। कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को पूर्वी उत्तर प्रदेश और ज्योतिरादित्य सिंधिया को पश्चिमी उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी सौंपी है। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने सूबे की 71 सीटें जीती थी। जबकि कांग्रेस के खाते में सिर्फ दो सीटें आई थी। जबकि दो सीटें ‘अपना दल’ ने जीती थीं। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी ने 5 सीटें जीती थी।