दिल्ली के भव्य सुनेजा उड़ा रहे थे इंडोनेशिया के लॉयन एयर जेट को, अब तक नहीं मिली खबर


इंडोनेशिया से सोमवार सुबह एक बुरी खबर लेकर आई जब लॉयन एयर का पैसेंजर जेट समंदर में क्रैश हो गया। प्लेन के पायलट भारतीय थे।
Photo/facebook.com

नई दिल्ली। इंडोनेशिया से सोमवार सुबह एक बुरी खबर लेकर आई जब लॉयन एयर का पैसेंजर जेट समंदर में क्रैश हो गया। इस जेट में १८८ लोग सवार थे और इन सभी लोगों का क्या हुआ है, इस पर अभी तक कोई भी आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया है।  इस हादसे के बाद अब भारत की नजरें भी आधिकारिक बयान पर हैं क्योंकि प्लेन के पायलट भारतीय थे। दिल्ली के भव्य सुनेजा इस प्लेन को उड़ा रहे थे जब यह दुर्घटना का शिकार हुआ। इस खबर के आने के बाद से ही भव्य का कुछ पता नहीं लग रहा है उनके परिवार की नजरें हर सेकेंड टीवी पर आ रही इससे जुड़ी खबरों पर टिकी हैं। मार्च २०११ में बने थे लॉयन एयर का हिस्सा भव्य सुनेजा ने मार्च २०११ में लॉयन एयर का ज्वॉइन किया था जो कि इंडोनेशिया की लो कॉस्ट एयरलाइन सर्विस है। दिल्ली के मयूर विहार के रहने वाले सुनेजा जिस प्लेन के पायलट थे वह जावा समंदर में क्रैश हो गया है। मीडिया रिपोट्र्स के मुताबिक सुनेता ने मयूर विहार के ही एल्कॉन पब्लिक स्कूल से पढ़ाई की थी।

एक सीनियर अधिकारी के हवाले से लिखा गया कि सुनेजा, भारत वापस लौटने के बारे में सोच रहे थे। जुलाई में हमारी बात हुई थी और वह काफी मृदुभाषी व्यक्ति थे। उनके पास बी७३७ के एक्सीडेंट से पहले एक्सीडेंट फ्री फ्लाइंग का अनुभव था। हम चाहते थे कि वह यहीं हमारे पास रहे क्योंकि उनका रिकॉर्ड काफी अच्छा था। उन्होंने कहा कि उन्होंने सिर्फ एक ही अनुरोध की थी उन्हें पोस्टिंग दिल्ली में चाहिए थी क्योंकि वह यहीं के रहने वाले थे। १३ मिनट के अंदर हुआ हादसे का शिकार लॉयन एयर को जो पैसेंजर जेट क्रैश हुआ है उसे जकार्ता वापस लौटने को कहा गया था। लेकिन १३ मिनट के अंदर ही जकार्ता से टेक ऑफ करने के बाद यह रडार से गायब हो गया।

इंडोनेशिया की डिजास्टर एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पुरवो नूग्रोहो ने मलबे की कुछ फोटोग्राफ ट्वीट की हैं। इन फोटोग्राफ में पूरी तरह से खत्म हो चुका एक मोबाइल फोन भी नजर आ रहा है। सर्च एंड रेस्क्यू एजेंसी के प्रवक्ता युसुफ लतीफ ने बताया कि अथॉरिटीज प्लेन की तलाश कर रही हैं। इस जेट का संपर्क भारतीय समयानुसार सुबह पांच बजे रडार से उस समय टूट गया जब यह पंगकल पिनांग के रास्ते में था। लतीफ ने कहा कि प्लेन समंदर में करीब ३० से ४० फीट गहरे में क्रैश हुआ है। इंडोनेशिया के सिविल एविएशन के महानिदेशक सिंदू रहायू ने बताया कि जेट में १७८ व्यस्क, एक बच्चा और दो नवजात सवार थे। इसके साथ ही दो पायलट्स और पांच फ्लाइट अटेंडेंट सवार थे। हवाई यातायात की हालत इंडोनेशिया में खस्ता सिविल एविएशन डिपार्टमेंट की ओर से जारी बयान में कहा कि जेट को रडार से गायब होने से पहले बेस पर वापस आने को कहा गया था। यह जेट बोइंग ७३७ था। इंडोनेशिया में परिवहन काफी हद तक हवाई यातायात पर निर्भर है जो यहां पर मौजूद द्वीपों को आपस में जोड़ता है। लेकिन यहां पर नागरिक उड्डयन सुरक्षा के लिहाज से काफी खतरनाक है। हाल के कुछ वर्षाें में यहां पर काफी जानलेवा हादसे हुए हैं। अगस्त में एक जेट पहाड़ियों में क्रैश हो गया था। इसमें 8 लोगों की मौत हो गई थी और सिर्फ १२ वर्ष का एक बच्चा जिंदा बच सकता था। अगस्त २०१५ में एक पैसेंजर एयरक्राफ्ट के क्रैश होने के बाद ५४ लोगों की मौत हो गई थी। इससे पहले साल २०१४ में एयर एशिया के एक प्लेन के क्रैश होने की वजह से १६२ लोगों की मौत हो गई थी।

– ईएमएस