इंद्राणी मुखर्जी का कोर्ट में सनसनीखेज दावा, ‘हत्या’ के 6 महीने बाद भी जिंदा थी शीना बोरा


मुंबई, (ईएमएस)। मुंबई के हाई प्रोफाइल शीना बोरा मर्डर केस में एक नया मोड़ आ गया है. दरअसल इस हत्यकांड की आरोपी इंद्राणी मुखर्जी ने कल स्पेशल सीबीआई कोर्ट के सामने अपनी जमानत याचिका की सुनवाई के दौरान चौंकाने वाला दावा करते हुए कहा कि 24 अप्रैल 2012 को मर्डर के 6 महीने बाद तक शीना जिंदा थी और अपने मंगेतर राहुल मुखर्जी के साथ थी. इंद्राणी ने केस में पांचवीं बार जमानत याचिका दाखिल की है जिस पर कल सुनवाई हुई.

इंद्राणी ने राहुल के कॉल डेटा रेकॉर्ड का हवाला देते हुए कोर्ट को बताया कि दोनों के बीच 26, 27 और 28 सितंबर को टेक्स्ट मेसेज का आदान-प्रदान हुआ था. इंद्राणी ने कोर्ट के सामने 27 सितंबर 2012 को दोनों के नंबर पर भेजे गए मेसेज पढ़े। इंद्राणी ने बताया, ‘राहुल ने लिखा- बाबा एम इन द कार पार्क, कम न (बाबा मैं कार पार्क में हूं, जल्दी आओ न.) इस पर शीना का रिप्लाइ आया- 5 मिनट, बब्स। उसके बाद राहुल का मेसेज आया- ए चलो जल्दी.’ इंद्राणी ने कोर्ट को बताया कि उसे जानबूझकर फंसाया जा रहा है, वह बेकसूर है.

इंद्राणी ने कहा कि अगस्त 2015 में उसकी गिरफ्तारी के तुरंत बाद, पीटर मुखर्जी ने उसके अकाउंट से अपने और अपने दोनों बेटे राहुल और रबिन के अकाउंट में 6 करोड़ रुपये ट्रांसफर किए. इंद्राणी ने यह भी दलील दी कि अप्रैल 2012 में शीना के कथित मर्डर के बाद अगस्त 2015 में गिरफ्तारी तक उसने 19 बार भारत में और भारत के बाहर यात्रा की. इंद्राणी ने कहा, ‘अगर मैंने ऐसा अपराध किया होता तो मैं वापस क्यों आती?’