सर्जिकल स्ट्राईक 2 : भारतीय वायु सेना की कार्रवाई पर भारत का आधिकारिक बयान, सुनिये पूरी पत्रकार वार्ता


(Photo Credit : theweek.in)

नई दिल्ली। मंगलवार देर रात पाकिस्तान में घूस कर भारतीय वायु सेना द्वारा की गई एयर-स्ट्राईक के चंद घंटों के भीतर भारत सरकार की ओर से विदेश सचिव विजय गोखले ने पत्रकारों के समक्ष एक बयान जारी किया।

विजय गोखले ने एक लिखित बयान पढ़ते हुए कहा कि १४ फरवरी को पाकिस्तान में निहित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने भारत में आत्मघाती आतंकी हमले को अंजाम दिया था। जिसमें सीआरपीएफ के ४० जवान शहीद हुए थे। आतंकी सरगना मसूद अजहर की अगुवाई में जैश-ए-मोहम्मद पाकिस्तान में पिछले २ दशकों से सक्रिय है, जिसका मुख्य मथक बहावलपुर में है। यह आतंकी संगठन श्रेणीबद्ध आतंकी हमलों के लिये जिम्मेदार है जिसमें दिसम्बर २००१ में भारत की संसद पर और जनवरी २०१६ में पठानकोट में हुआ हमला भी शामिल है। भारत की ओर से पाकिस्तान की सीमा और पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में मौजूद आतंकी कैम्प के बारे में जानकारी समय-समय पर साझा की गई थी। यद्यपि पाकिस्तान ने इससे इंकार किया। हजारों की संख्या में आतंकी तैयार करने के ऐसे कैंप बगैर वहां की सरकार की जानकारी के चलाना संभव नहीं है। भारत ने पाकिस्तान को कई बाद इस प्रकार के ट्रेनिंग कैंप बंद करने की गुहार लगाई। लेकिन पाकिस्मान ने ऐसे ट्रेनिंग कैंपों के खात्मे की दिशा में कोई कदम नहीं उठाया।

विदेश सचिव विजय गोखले ने आगे कहा कि भारत को विश्वसनीय सूत्रों से जानकारी मिली थी कि जैश-ए-मोहम्मद भारत के विभिन्न इलाकों में और आत्मघाती आतंकी हमले करने की फिराक में था। ऐसे में एतिहातन सुरक्षात्मक कार्रवाई अनिवार्य बन पड़ी थी। भारत ने जैश-ए-मोहम्मद के बालाकोट स्थित सबसे बड़े आतंकी ठिकाने को निशाना बनाया। इस हमले में बड़ी संख्या में जैश-ए-मोहम्मद के कमांडर, आतंकी, ट्रेनर मार गिराये गये हैं। बालाकोट स्थित यह आतंकी कैप मौलाना युसुफ अजहर उर्फ उस्ताद गौरी की अगुवाई में चल रहा था, जो मसूद अजहर का रिश्तेदार है।

विदेश सचिव ने आगे कहा कि भारत आतंकवाद के इस दूषण को खत्म करने के लिये कटिबद्ध है। ऐसे में मंगलवार की कार्रवाई विशेष रूप से जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों तक ही सीमित रखी गई। यह भी ध्यान रखा गया कि कार्रवाई के दौरान किसी भी प्रकार की आम लोगों के जान-माल का नुकसान ना हो। जिन ठिकाने को निशाना बनाया गया वो पहाड़ी चोटियों पर बस्तियों से दूर घने जंगल इलाकों में थे।

विजय गोखले ने कहा कि पाकिस्तान ने जनवरी २०१४ में वादा किया था कि वह उसकी भूमि या उसके नियंत्रण के क्षेत्र का भारत के खिलाफ किसी भी प्रकार की आतंकी गतिविधियों के लिये उपयोग नहीं होने देगा। हम अपेक्षा करते हैं कि पाकिस्तान उसके वादे पर खरा उतरेगा और जैश-ए-मोहम्मद के शेष सभी ठिकानों को खत्म करेगा और आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करेगा।