गोधरा ट्रेन अग्निकांड के दोषी याकूब पाटलिया को उम्रकैद


एसआईटी कोर्ट ने 2002 के गोधरा रेल अग्निकांड के आरोपी को दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई है।
Photo/Twitter

अहमदाबाद । एसआईटी कोर्ट ने 2002 के गोधरा रेल अग्निकांड के आरोपी को दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई है। आरोपी को 16 साल बाद गोधरा पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

27 फरवरी 2002 को गोधरा रेलवे स्टेशन पर साबरमती एक्सप्रेस ट्रेन के एस-6 कोच में आग लगा दी गई थी। जिसमें 59 कार सेवकों की मौत हो गई थी, जो अयोध्या से लौट रहे थे। गोधरा रेल अग्निकांड के बाद गुजरातभर में सांप्रदायिक हिंसा भड़क उठी। गोधरा रेल अग्निकांड में कई लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर गिरफ्तार किया गया था। याकूब पाटलिया नामक आरोपी के खिलाफ सितंबर 2002 में केस दर्ज किया था। याकूब पाटलिया साबरमती एक्सप्रेस के एस-6 कोच में आग लगानेवाली भीड़ में शामिल था। याकूब पर हत्या की कोशिश और षडयंत्र रचने का आरोप था। हांलाकि केस दर्ज होने के बाद याकूब पाटलिया फरार हो गया था। 16 साल गोधरा पुलिस ने याकूब पाटलिया को गोधरा के वचला ओढा क्षेत्र से गिरफ्तार किया था।

अहमदाबाद की एसआईटी अदालत ने 63 वर्षीय याकूब पातलिया को उम्रकैद की सजा सुनाई है। याकूब पाटलिया के साथ गोधरा रेल कांड में उम्रकैद की सजा पानेवालों की संख्या 32 हो गई है। इससे पहले 31 लोगों को उम्रकैद की सजा दी जा चुकी है। गौरतलब है अक्टूबर 2017 में गुजरात हाईकोर्ट ने गोधरा रेल कांड में 11 दोषियों को सजा ए मौत को उम्रकैद में तब्दील कर दिया था। जबकि 20 दोषियों की उम्रकैद की सजा बरकरार रखा था। इससे पहले निचली अदालत ने 31 आरोपियों को दोषी ठहराया था और 63 को बरी कर दिया था।

– ईएमएस