सबसे ज्यादा ट्यूशन पढ़ते हैं भारतीयों के बच्चे


भारत के बच्चे दुनिया में सबसे ज्यादा ट्यूशन पढ़ते हैं। खास तौर से गणित के विषय के लिए।
(AP Photo/Saurabh Das)
सर्वे में चौंकाने वाली जानकारी सामने आई

लंदन। भारत के बच्चे दुनिया में सबसे ज्यादा ट्यूशन पढ़ते हैं। खास तौर से गणित के विषय के लिए। विश्‍व भर में एजुकेशन से जुड़े एक ताजा सर्वे में भारत के बच्‍चों को लेकर यह चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। भारत में 74 फीसदी बच्चे ट्यूशन पढ़ते हैं। इतना ही नहीं अपने देश में स्‍कूल जाने वाले 72 फीसदी बच्‍चे एक्‍स्‍ट्रा करिकुलर एक्टिविटीज में भाग लेना पसंद करते हैं। वैश्विक स्तर पर किए गए सर्वे में ये जानकारी सामने आई है। एक्‍स्‍ट्रा करिकुलर एक्टिविटीज में खेल से जुड़ी गतिविधियां काफी कम हैं। सर्वेक्षण में भारतीय टीचर्स पर भी गर्व करने वाली बात सामने आई है। इसमें बताया गया है कि विश्‍व में सबसे ज्‍यादा भारतीय टीचर्स छात्रों के उज्ज्वल भविष्‍य के निर्माण के लिए प्रतिबद्ध हैं। यह जानकारी भारतीय टीचर्स और यहां के स्‍कूलिंग सिस्‍टम के लिए उत्‍साहवर्द्धक है। हमारे देश के पैरंट्स भी अपने बच्‍चों के भविष्‍य के बारे में सोचने में सबसे आगे हैं। भारत में सबसे ज्‍यादा 66 फीसदी पैरंट्स अपने बच्‍चों के सुनहरे भविष्‍य के निर्माण के लिए प्रतिबद्ध हैं।

पैरंट्स की यह भूमिका इस बात को और ज्‍यादा सपॉर्ट करती है कि भारतीय घरों में अन्‍य देशों की तुलना में बच्‍चों को शिक्षा के लिए मजबूत आधार प्रदान किया जाता है। इस सर्वेक्षण में मुख्‍य रूप से 10 देशों पर फोकस किया गया है। इनमें अमेरिका, पाकिस्‍तान, मलयेशिया, साउथ अफ्रीका, अर्जेंटीना और भारत भी शामिल है। भारत के करीब 4400 टीचर्स और 3800 छात्रों से जुटाई गई जानकारी को भी इस सर्वे में इस्‍तेमाल किया गया है। टीचर और स्‍टूडेंट्स को एक क्वेस्चनेयर भरने को दिया गया। इसमें टेक्‍नॉलजी, करियर ऑप्‍शंस, अन्‍य ऐक्टिविटीज में बिताए गए घंटे, क्राफ्ट, स्‍पॉर्ट, होमवर्क और विभिन्‍न कोर्सेज से जुड़े सवाल थे। क्वेस्चनेयर की फाइंडिंग्‍स को स्‍टूडेंट, पैरंट, करियर ऑप्‍शंस और टीचर्स जैसी कैटिगरी में बांट दिया गया। इसके बाद यह जानकारी सामने आई है कि 74 फीसदी भारतीय छात्र स्‍कूल के अलावा एक्‍स्‍ट्रा क्‍लासेज लेने को तरजीह देते हैं। जो कि विश्‍व में सबसे अधिक है। वहीं चीन के छात्र इस मामले में दूसरे नंबर पर हैं।वहीं सब्‍जेक्‍ट के मामले में इंग्लिश भारतीय छात्रों की पहली पसंद है। 84, 7 फीसदी बच्‍चे इंग्लिश पढ़ना चाहते हैं और 78 फीसदी बच्‍चों को मैथ पढ़ने में इंट्रेस्ट है। उसके बाद फिजिक्‍स 73,1 फीसदी और केमिस्‍ट्री 71,8 फीसदी का नंबर आता है। जबकि 47,8 फीसदी बच्‍चे कंप्‍यूटर साइंस पढ़ना चाहते हैं। एक बात गौर करने वाली यह है कि भले ही 72 फीसदी भारतीय छात्र एक्‍स्‍ट्रा करिकुलर एक्टिविटीज करना पसंद करते हैं। मगर उनमें 3फीसदी बच्‍चे ही ऐसे हैं जो हफ्ते में 6 घंटे से अधिक खेल पाते हैं। 36,7 फीसदी बच्‍चे हफ्ते में मुश्किल से कुल 1 घंटा खेल पाते हैं। जबकि 26,1 बच्‍चे स्‍कूल में कोई गेम नहीं खेलते। भारत में करियर के पारंपरिक ऑप्‍शंस में मेडिसिन और इंजिनियरिंग सबसे अधिक पॉप्‍युलर अब भी बने हुए हैं। इतना ही नहीं भारत में सर्वाधिक 8 फीसदी छात्र साइंटिस्‍ट बनना चाहते हैं। इसके अलावा दुनिया में सबसे अधिक भारत में 16फीसदी छात्र और सॉफ्टवेयर इंजिनियर और डिवेलपर बनना चाहते हैं।

– ईएमएस