21 जनवरी को लगेगा पहले चंद्रग्रहण, भारत में नहीं देगा दिखाई


21 जनवरी को पड़ने वाले साल के पहले चंद्रग्रहण का दीदार भारत में नहीं हो पाएगा, इसके बावजूद इसके बारे में काफी लोग जान चाहते हैं।
Photo/Twitter

नई दिल्ली। 21 जनवरी को पड़ने वाले साल के पहले चंद्रग्रहण पर चांद का अद्भुत नजारा देखने को मिलेगा। हालांकि निराशा वाली बात यह हैं कि इस चंद्रग्रहण का दीदार भारत में नहीं हो पाएगा, इसके बावजूद इसके बारे में काफी लोग जान चाहते हैं। इस दिन निकलने वाले चांद को सुपर ब्लड वोल्फ मून कहा जा रहा है। आने वाले सोमवार को पड़ने वाला ग्रहण मध्य प्रशांत महासागर, उत्तरी/दक्षिणी अमेरिका, यूरोप और अफ्रीका में दिखाई देगा, जबकि भारत में यह ग्रहण दिखाई नहीं देगा। भारतीय समयानुसार, यह ग्रहण रात 08:07:34 से अगले दिन 13:07:03 बजे तक रहेगा। पिछला पूर्ण चंद्र ग्रहण साल 2018 में 27 जुलाई को पड़ा था, जो 1 घंटा 43 मिनट तक चला था।

नासा के मुताबिक सुपर मून या फुल या न्यू मून पर चंद्रमा अन्य दिनों के मुकाबले धरती के सबसे करीब 3,63,000 किमी दूर होता है। सुपर मून पर चंद्रमा आम दिनों के मुकाबले 14 फीसदी बड़ा और 30 फीसदी अधिक चमकदार होता है। इस दौरान चांद का रंग लाल तांबे जैसा नजर आता है, इसकारण इस ब्लड मून भी कहा जाता है। ग्रहण के दौरान चंद्रमा का रंग इसकारण बदलता है क्योंकि सूरज की रोशनी धरती से होकर चंद्रमा पर पड़ती है। धरती की छाया की वजह से चंद्रमा का रंग ग्रहण के दौरान बदल जाता है। ग्रहण के दौरान या चंद्रमा को विभिन्न नामों से नवाजा जाता है।

– ईएमएस