भारत से पहले चीन ने मारी बाजी, रूसी एस-400 मिसाइल सिस्‍टम का किया परीक्षण


चीन ने रूस से आयातित उन्नत एस-400 वायु रक्षा प्रणाली का सफलतापूर्वक परीक्षण कर लिया है।
Photo/Twitter

नई दिल्‍ली। चीन ने रूस से आयातित उन्नत एस-400 वायु रक्षा प्रणाली का सफलतापूर्वक परीक्षण कर लिया है, जिसके लिए अमेरिका से प्रतिबंधों की धमकी पर चिंताओं के बावजूद भारत ने हाल ही में हस्ताक्षर किए हैं। चीनी सेना, पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने पहली बार इस प्रणाली का परीक्षण किया है, इसकी डिलीवरी रूस ने जुलाई में कर दी थी। चीन और रूस के बीच साल 2014 में इस रक्षा प्रणाली के लिए 3 बिलियन डॉलर में डील हुई थी। वहीं भारत को रूसी एस-400 मिसाइल सिस्‍टम की डिलीवरी कब होगी, इसकी कोई तारीख अभी तक सामने नहीं आई है। बताया जा रहा है कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी रॉकेट फोर्स ने पिछले महीने एस-400 का परीक्षण किया था। परीक्षण के दौरान S-400 वायु रक्षा प्रणाली ने लगभग 250 किलोमीटर दूर ‘सिम्युलेटेड बैलिस्टिक लक्ष्‍य’ को सफलतापूर्वक नष्‍ट किया। ये लक्ष्‍य की ओर 3 किलोमीटर प्रति सेकंड की सुपरसोनिक गति से आगे बढ़ा। रूसी मीडिया रिपोर्टों के हवाले से ये जानकारी दी। हालांकि परीक्षण के स्थान का खुलासा नहीं किया गया है।

बता दें कि भारत ने रूस के साथ हथियारों की खरीद पर अमेरिकी कांग्रेस द्वारा काउंटरिंग अमेरिका के सलाहकारों के माध्यम से प्रतिबंध अधिनियम के तहत प्रतिबंधों की धमकी के बावजूद इस वर्ष अक्टूबर में इस प्रणाली को खरीदने के लिए 5 बिलियन अमेरिकी डालर के समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। भारत चाहता है कि लंबी दूरी की मिसाइल प्रणाली हमारे वायुरक्षा तंत्र को मजबूत करे, खासकर 3488 किलोमीटर लंबी चीन-भारत सीमा पर इस तैनात किया जाए।

Photo/Twitter

इस घातक मिसाइल प्रणाली की खरीद के लिए 2014 में रूस के साथ इस सौदे को सील करने वाला चीन पहला विदेशी खरीदार था। इसके बाद तुर्की और भारत ने भी इस मिसाइल सिस्‍टम के लिए रूस से सौदा किया। एस-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम एक साथ तीन तरह की मिसाइल दागने में सक्षम है। यह मिसाइल सिस्टम एक साथ 36 लक्ष्यों को भेद सकती है।यह मिसाइल प्रणाली 400 किमी दूर तक मौजूद दुश्मन के विमान, मिसाइल और यहां तक कि ड्रोन को भी मार गिराने में सक्षम है। ये रूस की नई पीढ़ी का एंटी एयरक्राफ्ट वेपन है जिस रूसी एल्मेज सेंट्रल डिजाइन ब्यूरो ने विकसित किया है। इस मिसाइल सिस्टम को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि इस सभी तरह के एरियल टारगेट के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। यह मिसाइल प्रणाली किसी भी हवाई हमले को 400 किमी की रेंज में और 10,000 फीट की ऊंचाई तक सटीक हमला कर सकती है। हवा में (एयरोडाइनिमिक) लक्ष्यों के लिए रेंज-3 किमी से 240 किमी की दूरी तय है। प्रक्षेपित (बैलिस्टिक) लक्ष्यों के लिए रेंज-5 किमी से 60किमी की दूरी तय है। मिसाइल सिस्टम की अधिकतम रफ्तार 4.8 किलोमीटर प्रति सेकंड तक है। 10,000 फीट (30 किमी) की ऊंचाई तक निशाना साध सकता है। इसकी तैनाती में 5 से 10 मिनट तक का समय लगता है। इसकी तय करने दूरी अमेरिका के एमआईएम-104 से दोगुनी है। इसका मुख्य काम दुश्मनों के स्टील्थ विमान को हवा में उड़ा देना है।

2019 में होगी तुर्की को एस 400 की डिलीवरी

जहां तक एस-400 की बात है तो रूस ने इस अपनी सेना में वर्ष 2007 में शामिल किया था। नाटो में इसका नाम एसए-21 गोलिवियर है। इसके अलावा सीरिया में भी रूस ने इस तैनात किया हुआ है। एस प्रणाली पर सिर्फ भारत और चीन की ही निगाह नहीं है बल्कि दूसरे देश भी इस खरीदने के इच्‍छुक हैं। तुर्की ने भी इस लेकर रूस से समझौता किया हुआ है। दोनों देशों के बीच यह समझौता वर्ष 2016 में हुआ था। इसके बाद इसकी डिलीवरी को लेकर हाल ही में दोनों देशों के राष्‍ट्राध्‍यक्षों के बीच वार्ता हुई है। इसके मुताबिक रूस ने तुर्की को इसकी पहली डिलीवरी वर्ष 2019 में करने की बात कही है। हालांकि वार्ता के दौरान तुर्की के राष्‍ट्रपति रसैप तैय्यप इरोदगन ने व्‍लादमीर पुतिन ने इसकी डिलीवरी जल्‍द कराने का अनुरोध किया है।

– ईएमएस