अयोध्या मामला : आध्यात्मिक गुरु श्री श्री की पहल का एक प्रमुख पैरोकार ने किया समर्थन


अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद को सुलझाने के लिए ‘आर्ट ऑफ लीविंग’ के गुरू श्री श्री रविशंकर ने भी पहल की है।

लखनऊ । अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद को सुलझाने के लिए ‘आर्ट ऑफ लीविंग’ के गुरू श्री श्री रविशंकर ने भी पहल की है। अदालत से हल निकलने में हो रही देर और मंदिर निर्माण के वास्ते कानून बनाने के लिए केंद्र सरकार पर विभिन्न हिंदूवादी संगठनों द्वारा लगातार दबाव डाले जाने के बीच, बातचीत के जरिए इस मुद्दे का हल निकाले जाने की एक नई उम्मीद जगी है। मामले के एक प्रमुख मुद्दई ने इस संबंध में ‘आर्ट ऑफ लीविंग’ के गुरू श्री श्री रविशंकर की परस्पर वार्ता के जरिए हल निकालने की पूर्व में की गई कोशिश का समर्थन किया है। अयोध्या प्रकरण के प्रमुख मुद्दई हाजी महबूब अहमद ने आज अपने एक लिखित बयान में कहा है कि वह रविशंकर के प्रयासों का पूरा समर्थन करते हैं और आपसी बातचीत के जरिए निकाले गए हल से ही लंबे वक्त तक हिंदू और मुसलमानों के बीच सौहार्द कायम रह सकता है।

बयान के मुताबिक, हाजी महबूब ने कहा श्री श्री रविशंकर के अयोध्या मुद्दे को आपसी भाईचारे से हल करने के प्रयासों से हम भलीभांति परिचित हैं। हमारा मानना है कि अयोध्या मुद्दे का अदालत से बाहर किया गया फैसला ही हिंदुओं और मुसलमानों के बीच लंबे समय तक शांति सौहार्द और सद्भाव कायम कर सकता है। हम उनके प्रयासों की प्रशंसा करते हैं और पूर्ण रूप से उनका समर्थन करते हैं। अंजुमन मुहाफिज मस्जिद व मकाबिर संगठन के अध्यक्ष हाजी महबूब के इस बयान पर मामले के एक और याचिकाकर्ता मोहम्मद उमर के भी दस्तखत हैं। इसके अलावा अयोध्या की केवड़ा मस्जिद और टेढ़ी बाजार मस्जिद के इमामों ने भी इस बयान पर हस्ताक्षर किए हैं। हालांकि बयान में श्री श्री रविशंकर द्वारा पेश किए गए फार्मूले का समर्थन करने का कोई जिक्र नहीं है। बहरहाल, इस बयान को अयोध्या मामले का बातचीत के जरिए हल निकाले जाने के परिप्रेक्ष्य में काफी अहम माना जा रहा है।

– ईएमएस