भारत जल्द एशिया तथा खाड़ी देशों को स्वदेशी मिसाइल बेचने की तैयारी में


(Photo Credit : etimg.com)

भारत न केवल सुरक्षात्मक उपकरण आयात करता है, बल्कि इसका निर्यात भी करता है। भारत सरकार जल्द ही स्वदेशी मिसाइलों को निर्यात करेगी और इस पर अंतिम निर्णय की प्रतीक्षा कर रही है। दक्षिण-पूर्व एशियाई और खाड़ी देश, भारत के मुख्य खरीदार होंगे। इस साल रक्षा अपकरणों का सौदा शुरू होने की उम्मीद है।

सिंगापुर में मंगलवार को तीन दिवसीय IMDEX एशिया प्रदर्शनी 2019 का आयोजन किया जा रहा है। इस बीच, ब्रह्मोस एयरोस्पेस के मुख्य महाप्रबंधक कमोडोर एस के अय्यर ने कहा कि कंपनी की सभी तैयारियां पूरी हैं, बस सरकार की हरी झंडी का इंतजार है।

कमोडोर अय्यर ने कहा कि भारतीय मिसाइलों को खरीदने का सबसे बड़ा शौक दक्षिण पूर्व और खाड़ी देशों को है। उन्होंने कहा कि मिसाइल का पहला बैच बेचने के लिए तैयार है और इसके लिए सरकार की अंतिम मंजूरी का इंतजार कर रहा है।

IMDEX एशिया प्रदर्शनी 2019 में, दुनिया की 236 कंपनियों ने भाग लिया है। दुनिया भर से लगभग 10500 कंपनी के प्रतिनिधि यहां आए हैं। 30 देशों के 23 युद्धपोतों को प्रदर्शनी में शामिल किया गया है।

ब्रह्मोस को भारत और रूस ने एक साथ विकसित किया है। कुछ दक्षिण अमेरिकी देशों ने भी भारतीय मिसाइलों में रुचि दिखाई है। इसके पीछे का कारण नवीनतम तकनीक और कम लागत है।