जम्मू बस स्टेशन पर ग्रेनेड अटैक का आरोपी गिरफ्तार, १ की मौत ३२ घायल


जम्मू के एक बस स्टैंड पर गुरुवार दोपहर हुए ग्रेनेड अटैक में ३२ लोग घायल हुए हैं, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
Photo/Twitter

जम्मू । जम्मू के एक बस स्टैंड पर गुरुवार दोपहर हुए ग्रेनेड अटैक में ३२ लोग घायल हुए हैं, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जबकि एक घायल की मौत हो गई है। सुरक्षाकर्मियों ने इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू किया। जम्‍मू-कश्‍मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया कि सुरक्षा बलों ने ग्रेनेड फेंकने वाले को गिरफ्तार कर लिया है।

Photo/Twitter

बता दें कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद से ही जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाकर्मियों को अलर्ट पर रखा गया है। जम्मू के आईजी मनीष सिन्हा ने बताया कि घटनास्थल पर मौजूद लोगों के अनुसार एक संदिग्ध हमलावर ने ग्रेनेड से हमला किया और मौके से फरार हो गया। आईजी का कहना है कि हमले का मकसद सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ना था। इस विस्फोट में १७ साल के मोहम्मद शारिक की मौत हो गई। गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज (जीएमसी) अस्पताल की प्रधानाचार्या सुनंदा रैना ने बताया, अबतक ३२ घायलों को यहां लाया गया है। इनमें से तीन की हालत गंभीर है और दो का ऑपरेशन किया जा रहा है। जम्मू के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) एम के सिन्हा ने बताया कि प्रारंभिक जांच से लगता है कि किसी ने दोपहर के वक्त बस स्टैंड इलाके में हथगोला फेंका, जिसके चलते विस्फोट हुआ।

Photo/Twitter

अधिकारी ने बताया कि विस्फोट में बस स्टैंड पर खड़ी सरकारी बस को बहुत ज्यादा नुकसान हुआ। आईजी ने कहा, ‘जब भी चौकसी ज्यादा होती है, हम जांच-पड़ताल सख्त कर देते हैं लेकिन किसी-किसी के उससे बच निकलने की आशंका रहती है और यह ऐसा ही मामला लग रहा है।’ उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने का आग्रह करते हुए कहा, ‘निश्चित तौर पर मंशा सांप्रदायिक शांति एवं सौहार्द बिगाड़ने की थी। सूत्रों के मुताबिक शुरुआती जांच में सामने आ रहा है कि इस धमाके का मकसद सांप्रदायिक तनाव पैदा करना था। प्रशासन ने जम्मू-कश्मीर की जनता से शांति बनाए रखने की अपील की है। ग्रेनेड धमाका इतना जबर्दस्त था कि आसपास की कई बसों को भी नुकसान पहुंचा है। पिछले साल २९ दिसंबर को भी आतंकियों ने बस स्टैंड को निशाना बनाया था। उस समय आतंकी बस स्टैंड पर ग्रेनेड फेंककर भाग गए थे। तब कोई नुकसान नहीं हुआ था। हालांकि बड़ा सवाल यह है कि बस स्टेशन के पास ही पुलिस स्टेशन भी है फिर भी आतंकी अपने मंसूबे में कामयाब हो गए।

– ईएमएस