हिमालय में कभी भी आ सकता है 8.5 तीव्रता का भूकंप


भारतीय वैज्ञानिकों ने हिमालय क्षेत्र में हो रहा भूगर्भीय तनाव भविष्य में केंद्रीय हिमालय में 8.5 या उससे अधिक तीव्रता का भूकंप ला सकता है।
Photo/Twitter
भारतीय वैज्ञानिकों ने दी चेतावनी

नई दिल्ली। भारतीय वैज्ञानिकों ने हिमालय क्षेत्र में ज्यादा तीव्रता का भूकंप आने की चेतावनी दी है। वैज्ञानिकों ने अपने शोध में पाया कि हिमालय क्षेत्र के आसपास जिस तरह के भौगोलिक घटनाएं हो रही हैं, उनके अध्ययन से पता चलता है कि इस इलाके में कभी भी 8.5 तीव्रता का भूकंप आ सकता है। जवाहरलाल नेहरू सेंटर के भूकंप विशेषज्ञ सीपी राजेंद्रन ने कहा इस क्षेत्र में हो रहा भूगर्भीय तनाव भविष्य में केंद्रीय हिमालय में 8.5 या उससे अधिक तीव्रता का भूकंप ला सकता है। प्रख्यात भू-वैज्ञानिक रोजर बिल्हम ने भारतीय वैज्ञानिकों की इस चेतावनी का समर्थन किया है।

‘जियोलॉजिकल जर्नल’ में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक, शोधकर्ताओं ने दो नए खोजी गई जगहों के आंकड़ों के साथ-साथ पश्चिमी नेपाल और चोरगेलिया में मोहन खोला के आंकड़ों के साथ मौजूदा डेटाबेस का मूल्यांकन किया, जोकि भारतीय सीमा के अंदर आता है। शोधकर्ताओं ने भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो के कार्टोसैट-1 उपग्रह से गूगल अर्थ और इमेजरी का उपयोग करने के अलावा भूगर्भीय सर्वेक्षण के भारत द्वारा प्रकाशित स्थानीय भूविज्ञान और संरचनात्मक मानचित्र का उपयोग किया है। शोधकर्ताओं के विश्लेषण में बताया गया है कि यह अध्‍ययन हमें यह निष्कर्ष निकालने के लिए मजबूर करता है कि केंद्रीय हिमालय में जिस तरह का भूगर्भीय तनाव निर्मित हो रहा है, उससे 8.5 या उससे अधिक तीव्रता का बड़ा भूकंप आ सकता है। भूकंप संभावित यह क्षेत्र लगभग 600 किमी तक फैला हुआ है।
उल्लेखनीय है कि इससे पहले नानयांग टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी (एनटीयू) की अगुवाई में एक रिसर्च टीम ने पाया था कि मध्य हिमालय क्षेत्रों में रिक्टर पैमाने पर आठ से साढ़े आठ तीव्रता का शक्तिशाली भूकंप आने का खतरा है। शोधकर्ताओं ने एक बयान में कहा सतह टूटने संबंधी खोज का हिमालय पर्वतीय क्षेत्रों से जुड़े इलाकों पर गहरा असर हो रहा है। प्रख्यात भू-वैज्ञानिक रोजर बिल्हम ने भी भारतीय वैज्ञानिकों की इस चेतावनी का समर्थन किया है।

अमेरिकी भू-वैज्ञानिक रोजर बिल्हम का पूरा जीवन भूंकप और इससे जुड़ी चीजों की खोज पर बीता है। उन्होंने कहा भारत के वैज्ञानिकों ने जो संभावना जताई है, उसपर किसी भी तरह का शक नहीं किया जा सकता। फिलहाल भूगर्भीय स्थितियां ऐसी ही हैं। हालात यही हैं कि हिमालय क्षेत्र में कभी भी अधिक तीव्रता का भूकंप आ सकता है। उल्लेखनीय है कि जिस इलाके में भूकंप आने की चेतावनी दी जा रही है, उसी क्षेत्र में स्थित नेपाल में पिछले दिनों दो बड़े भूकंप आ चुके हैं, जिनमें जानमाल की भारी क्षति हुई थी। इनमें 8635 लोगों को जान से हाथ धोना पड़ा था, जबकि 89 विदेशियों समेत 300 से अधिक लोग लापता हो गए थे।

– ईएमएस