राजस्थान में भाजपा की पहली लिस्ट के बाद लगातार तीखे हो रहे बागियों के तेवर


राजस्थान में विधानसभा चुनाव के टिकट वंचित भाजपा के एक और विधायक ने टिकट नहीं मिलने पर बगावत की राह अपनाते हुए पार्टी छोड़ दी है।
(Photo: IANS)

जयपुर। राजस्थान में विधानसभा चुनाव के टिकट वंचित नेताओं के तेवर प्रथम सूची आने के बाद और तीखे हो गए हैं। यहां भाजपा के एक और विधायक ने टिकट नहीं मिलने पर बगावत की राह अपनाते हुए पार्टी छोड़ दी है। जन-स्वास्थ्य अभियांत्रिकी और भूजल मंत्री सुरेन्द्र गोयल पहले ही त्यागपत्र दे चुके हैं। नागौर से विधायक हबीबुर्रहमान ने अपना इस्तीफा मंगलवार को पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष को ईमेल किया। पहली सूची में अपना नाम नहीं पाने वाले पार्टी के कई अन्य विधायक भी निर्दलीय चुनाव लड़ने की तैयारी में है। पार्टी ने विधानसभा चुनाव के लिए 131 विधायकों की पहली सूची रविवार देर रात जारी की। इसमें पार्टी ने अपने मौजूदा विधायकों में से 85 पर फिर भरोसा जताया जबकि 26 की टिकट काट दी गई है। रहमान ने कहा, मैंने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा आज पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष को भेज दिया है। मेरा टिकट काटे जाने से पार्टी कार्यकर्ताओं में नाराजगी है इसलिए मैंने यह फैसला किया है। उन्होंने कहा कि वह दिल्ली में हैं और अपने समर्थकों से चर्चा के बाद ही भविष्य का फैसला करेंगे। रामगंज मंडी की विधायक चंद्रकांता मेघवाल ने भी निर्दलीय के रूप में चुनाव लड़ने की घोषणा की है। उन्होंने कहा, मेरी विधानसभा सीट से मेरे बजाय किसी अन्य को टिकट दिया गया है। मुझे नहीं पता कि पार्टी ने ऐसा क्यों किया। मैं अपने विधानसभा क्षेत्र से स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में लडूंगी।

सोजत से दो बार की विधायक संजना आगरी ने भी टिकट नहीं दिए जाने पर हैरानी जताई है। उन्होंने कहा कि बीते 15 साल में अनुसूचित जाति के पारंपरिक मतदाताओं को भाजपा से जोड़ने के लिए उन्होंने कठिन मेहनत की लेकिन पार्टी ने गलत फैसला किया है। उन्होंने कहा कि पार्टी के इस फैसले से उन्हें और मेघवाल समुदाय में हैरानी है। उन्होंने कहा कि वह टिकट लेने की कोशिश करेंगी और अगर नहीं मिलती तो भी पार्टी के लिए काम करती रहेंगी। डूंगरपुर के भाजपा विधायक देवेंद्र कटारा ने कहा है कि वह पार्टी कार्यकर्ताओं से चर्चा के बाद शाम तक कोई फैसला करेंगे। पार्टी ने उनका टिकट भी काट दिया है।

उल्लेखनीय है कि भाजपा की 131 उम्मीदवारों की पहली सूची में नाम नहीं आने से नाराज वसुंधरा राजे सरकार के जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री सुरेन्द्र गोयल ने सोमवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया। सोमवार को ही पार्टी के प्रदेश मुख्यालय पर किशनगढ़ सहित अनेक उन विधानसभा क्षेत्रों के कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया था जिनके मौजूदा विधायकों को पार्टी ने टिकट नहीं दिया है।

– ईएमएस