एक साल में जन आरोग्य केंद्रों में भर्ती किए जाएंगे 9000 आयुष चिकित्सक


नई दिल्ली । अगले साल करीब नौ हजार आयुष चिकित्सकों की भर्ती की जाने वाली है। जबकि अगले पांच सालों में भर्ती किए जाने वाले लोगों की संख्या बढ़ कर 75 हजार हो जाएगी।

ये नियुक्तियां आयुष्मान भारत योजना के तहत देशभर में तैयार होने जा रहे डेढ़ लाख हेल्थ एंड वेलनेस केंद्रों के लिए की जाएंगी।

केंद्रीय आयुष मंत्रालय के सचिव वैद्य राजेश कोटेचा ने बताया कहा कि हेल्थ एंड वेलनेस केंद्रों में आयुष को अभिन्न अंग के तौर पर शामिल किया है। प्रत्येक केंद्र पर कम से कम एक आयुष चिकित्सकों की तैनाती की जानी है।

इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए अगले पांच सालों में 75 हजार आयुष चिकित्सकों की भर्ती की जाएगी। उन्होंने कहा कि हमारे सामने अब देश को योग्य आयुष चिकित्सक मुहैया कराने की चुनौती है। बेहतर आयुष ग्रेजुएट तैयार करने के लिए हमने शिक्षा के क्षेत्र में प्रशासनिक सुधार किया है।

यह पूछे जाने पर कि क्या ये चिकित्सक एलोपैथिक दवाएं भी लिख सकेंगे? कोटेचा ने कहा कि इसकी जरूरत नहीं है। आयुष की विधाएं चाहे वह आयुर्वेद हो, होमियोपैथी हो या यूनानी सभी अपने आप में पूर्ण हैं।

जानकारी के मुताबिक, अगले एक साल में केंद्र द्वारा स्वीकृत लगभग 18 हजार हेल्थ एंड वेलनेस केंद्रों पर 9 हजार आयुष चिकित्सकों की भर्ती की जानी है। हालांकि, आयुष चिकित्सकों की भर्ती का काम राज्य सरकारों की ओर से किया जाएगा।

पहला चरण पूरा होने के बाद अगले चरण की भर्ती प्रक्रिया शुरू की जाएगी। केंद्र का लक्ष्य अगले पांच वर्षों में 75 हजार नियुक्तियों को पूरा करने का है।

-ईएमएस