गांधी जयंती पर 7 नक्सलियों ने किया समर्पण


Photo : IANS

कोंडागांव। छत्तीसगढ़ में मंगलवार को गांधी जयंती पर नक्सलियों ने भी गांधी के सिद्धांतों पर  चलने का फैसला लिया। इस फैसले के साथ 7 नक्सलियों ने एसपी अरविंद कुजुर और सीआरपीएफ  कमांडेंट कवींद्र के सामने आत्मसमर्पण कर दिया।

एसपी और कमांडेंट ने बताया कि 7 इनामी नक्सलियों ने 188 बटालियन सीआरपीएफ के कोंडागांव मुख्यालय में आत्मसमर्पण किया। आत्मसमर्पण करने वाले नक्सली, नक्सली संगठन जनताना सरकार/जनमिलिशिया के सदस्य थे। आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों ने बताया कि उन्होंने शोभी जैसे नक्सल नक्सली कमांडर के साथ काम किया है।

नक्सलियों ने बताया कि नक्सली संगठन में शामिल होने के बाद उन्होंने पुलिस और सरकार को नुकसान पहुंचाने के लिए कई घटनाओं को अंजाम दिया। इन नक्सलियों के विरुद्ध विभिन्न नक्सल गतिविधियों में संलिप्त होने के कारण प्रशासन ने इन पर इनाम घोषित था और खोजबीन जारी थी।

नक्सलियों ने बताया कि संगठन से जुड़े रहने के बावजूद वह माओवादियों की विचारधारा से त्रस्त थे, छत्तीसगढ़ के स्थानीय नक्सलियों के साथ आंध्रप्रदेश के नक्सली दुर्व्यव्यवहार करते हैं तथा यहां की महिलाओं और युवतियों का शारीरिक शोषण करते हैं। इस क्षेत्र से अवैध वसूली कर अपने व्यक्तिगत फायदों के लिए इस्तेमाल करते हैं।

उन्होंेने बताया कि संगठन में छत्तीसगढ़ के नक्सलियों को वरिष्ठ पद नहीं दिए जाते। बड़े पदों पर आंध्रप्रदेश के नक्सली नेता ही रहते हैं। ये अपने राज्य आंध्रप्रदेश में किसी तरह की तोड़फोड़ नहीं करते हैं, मगर छत्तीसगढ़ में भेदभाव पूर्ण तरीके से स्कूल भवन और सड़कें नहीं बनाने देते हैं, जिससे क्षेत्र का विकास नहीं हो पाया है।

-आईएएनएस