104 साल के मैराथन धावक फौजा िंसह हैं शाकाहारी


मुंबई । १०४ साल के फौजा िंसह दुनिया के शायद सबसे बुजुर्ग धावक हैं। कुछ साल पहले फौजा जी ने मैराथन में दौड़ना छोड़ दिया, लेकिन दुनिया भर के धावकों के लिए वो प्रेरणा हैं, इस उम्र में दौड़ने के लिए फौजा जी का सुझाव आसान है।
एक टीवी चैनल से ़खास बातचीत में फौजा िंसह ने कहा, ‘मेरी डाइट बड़ी ़खास है, खुश रहो।’ इसके बाद एक लंबी मुस्कुराहट के साथ उन्होंने कहा, ‘मैं शाकाहारी हूं, लंदन में जहां रहता हूं वहां बहुत ठंड पड़ती है, इसलिए दालें, रोटियां और हरी सब़्जी खाता हूं, करेला मुझे बहुत पसंद है।’ बीवी-बेटे की मौत के बाद ८९ साल की उम्र में फौजा िंसह ने दौड़ना शुरू किया, पंजाब से लंदन जाकर बस गये, लेकिन आज भी हिन्दुस्तान लौटते हैं तो वापस जाने का दिल नहीं करता।
मुंबई मैराथन के मौके पर उन्होंने कहा, ‘जब भी वापस लौटता हूं तो मेरा गांव, मेरे यार मुझे याद आते हैं, यहां वापस लौटकर बहुत अच्छा लगता है।’ १०४ साल की उम्र में फौजा िंसह, जोश-जज्बे से भरे हुए हैं। २०११ में टोरंटो मैराथन में हिस्सा लेकर फौजा जी सबसे उम्रदराज मैराथन धावक माने गये, लेकिन गिनीज बुक में उनका नाम दर्ज नहीं हुआ क्योंकि उनके पास जन्म प्रमाण पत्र नहीं है। २००० से मैराथन दौड़ रहे फौजा िंसह ने आ़िखरी बार २०१३ में हॉन्गकॉन्ग मैराथन में पेशेवर तरीके से भाग लिया था।